Advertisement

Advertisement

Showing posts with label Health. Show all posts
Showing posts with label Health. Show all posts

Tuesday, March 16, 2021

सोने से पहले सिर्फ 1 लौंग खाकर पानी पीने से कौन सी बीमारी दूर हो जाएगी?

वैसे तो लौंग को आयुर्वेद में महत्वपूर्ण स्थान दिया गया हैं. Long एंटी-ऑक्सीडेंट, कवकरोधी, जीवाणुरोधी, एंटी-वायरल, एंटी-सेप्टिक, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक जैसे उत्तम गुणों से भरपूर हैं. इसके अलावा पोटेशियम, सोडियम, फास्फोरस, लोहा, मैंगनीज, आहार फाइबर, आयोडीन, विटामिन के और सी, ओमेगा -3 फैटी एसिड, कैल्शियम और मैग्नीशियम आदि का भी लौंग एक प्रचुर स्रोत है.

जैसे हर व्यक्ति को रात को सोने से पहले 1 लौंग खाकर उसपर 1 गिलास गर्म पानी पीना चाहिए. यह स्वास्थ्य के लिए बहुत ही उतम हैं. इससे कई प्रकार की गंभीर बीमारियों से मुक्ति मिलती हैं. लौंग गैस्ट्रिक रस के स्राव में सुधार लाकर पाचन की प्रक्रिया को सुधारती है.

या फिर आपको यह भी बता दें यह पेट की कई परेशानियों में फायदा करती है. जैसे – जलन, गैस, उल्टी और अपच इत्यादि जैसी कई समस्याओं में लौंग बहुत फायदेमंद हैं. इसके अलावा लौंग के सेवन से गला खुल जाता है और छाती में जमा कफ बाहर निकल जाता है.

यह पाचक, पित्त नाशक, कुछ उष्ण, वायु रोग नष्ट करने वाला, दमा, बुखार, अपच, हैजा, सिर दर्द, हिचकी और खांसी आदि रोगों में फायदा पहुंचाती हैं.

Sunday, January 31, 2021

How Sleep Deprivation Drove One Man Out Of His Mind

In 1959, 32-year old popular radio personality Peter Tripp decided to stay awake for 8 days and nights as part of a publicity stunt aimed at raising money for charity. It was the most daring sleep deprivation ever attempted, and virtually every researcher and physician warned Tripp against the idea. But Tripp was determined, and so on a cold January morning, he placed himself in a glass booth in the middle of Times Square so that curious onlookers and fascinated scientists alike could observe his activity as he went for 201 consecutive hours without sleep.

Trip beginning to feel effect of sleep deprivation

At first, Tripp seemed to cope well without sleep. He was, after all, considered to be a normal and well-to-do man by his family, friends, and listeners. His initial broadcasts during his experiment were entertaining as he remained cheerful and humorous as usual. By day four, however, Tripp began experiencing terrifying hallucinations, imagining spiders crawling in his shoes and mice scampering around him.

Trip experiencing visual hallucinations.

At times, his psychotic symptoms were so severe that physicians were unable to test his physiological functioning. Tripp also grew increasingly hostile; for example, he became convinced that the physicians monitoring him were conspiring against him, and would experience angry outbursts during which he would attack them. By day eight, Peter Tripp could not differentiate between his hallucinations and delusions, and reality. He had in fact, essentially “lost his mind”.

Attendants putting Peter Tripp to bed at the end of his “wake-a-thon”

Eventually, Tripp was able to endure over eight days of sleep deprivation — thereby breaking the world record — and upon completing his feat, slept for twenty-two hours straight.

He awoke seeming to have recovered from the wake-a-thon and resumed his radio job; however, it was later evident that this experience did not come without long-term consequences. Tripp continued to show psychotic symptoms beyond the charity event, lost his job, divorced his wife, and was rarely heard of by the public ever again.

What was the reason underlying some of Tripp’s psychotic symptoms? As psychologists studied Tripp’s downward spiral, they realized that his visual hallucinations were following a pattern of occurring roughly every 90 minutes, a cycle that mimics the timing of rapid eye movement (REM) sleep. As we enter REM sleep, our brains become very active as it synthesizes and interprets different signals, and it is during this stage that we dream. Tripp experienced what psychologists believe were “waking dreams”, when his mind followed a regular pattern of dreaming while the body remained awake.

What can we take away from Peter Tripp’s story? Sleep deprivation can have irreversible, damaging, and long-lasting consequences on one’s social, cognitive, and behavioral functioning

Our hope is that you can wake up to the truth: Sleep is worth your time.

Friday, January 29, 2021

सुबह उठ के पहले क्या खाना चाहिए ?

आयुर्वेद के अनुसार, सुबह खाली पेट इन चीजों का सेवन करने से स्‍वास्‍थ्‍य अच्‍छा रहता है।

  1. सुबह खाली पेट किशमिश खाएं। भीगी हुए किशमिश खाएंगे तो ज्‍यादा फायदेमंद होती है। किशमिश में मौजूद पोषक तत्‍व, स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होते हैं।
  2. गुड़ को बेहद लाभदायक माना गया है। आयुर्वेद के अनुसार, बासी मुंह गुड़ खाना चाहिए। अगर गुड़ के साथ गुनगुना पानी भी हो तो बहुत अच्छा है। शरीर को काफी ऊर्जा मिलती है। इससे खून साफ होता है व कई तरह की बीमारी दूर होती है। इससे पूरे दिन एसिडिटी नहीं होती है।
  3. सुबह उठकर खाली पेट लहसुन की कली खाएं। पाचन के लिए तो ये रामबाण है। अगर किसी को पेट फूलने की समस्‍या होती है तो उसके लिये ये काफी फायदेमंद रहेगा।
  4. सुबह उठकर भीगे बादाम खाएं। इसमें प्रोटीन, ओमेगा 3 फैटी एसिड, विटामिन ई, कैल्शियम आदि पोषक तत्व होते हैं। बादाम जब भी खाएं इसके छिलके उतारकर खाएं। इससे यह ज्यादा लाभ देती है।

Sunday, January 10, 2021

11 amazing facts about the human brain


  1. The human brain isn't actually fully mature until age 25
  2. Scientists think that human brains are actually shrinking over time
  3. The human brain is mostly water and dehydration can make it work poorly
  4. Your brain can't actually feel pain
  5. Extreme dieting may lead your brain to eat itself
  6. The part of the brain responsible for memory is significantly larger in taxi drivers
  7. The part of your brain that lets you see are actually nowhere near your eyes
  8. Contrary to the popular myth, you actually do use most of your brain
  9. When musicians play together, their brain waves synchronize
  10. Some blind people are able to "see" out of their ears (It is possible to "see" sounds)
  11. Your brain activity is as unique to you as a fingerprint.
Source: Insider

Thursday, January 7, 2021

शिलाजीत क्या है और उनके फायदे क्या हैं?

आयुर्वेद के अनुसार, शिलाजीत में 85 तरह के मिनरल्स होते हैं।

आयुर्वेद के अनुसार शिलाजीत की उत्पत्ति पत्थर से हुई है। गर्मी के मौसम में सूर्य की तेज गर्मी से पर्वत की चट्टानों के धातु अंश पिघल कर रिसने लगता है। इसी पदार्थ को शिलाजीत कहा जाता है।


  • ज्यादातर लोग शिलाजीत को केवल मर्दानगी बढ़ाने वाली आयुर्वेद औषधि मानते हैं। यह सत्य भी है। शोधों में साबित हो चुका है कि शिलाजीत के सेवन से मर्दाना ताकत को बढ़ाया जा सकता है। यह पुरुष और स्त्री दोनों के लिए फायदेमंद है।
  • इसका सेवन शरीर का बल देकर उसे स्वस्थ, शक्तिशाली तथा पुष्ट बनाना होता है।
  • इसका सेवन महिलाओं के अनियंत्रित मासिक धर्म में फायदेमंद साबित होता है।
  • शिलाजीत शरीर में कैंसर सेल्स को बढ़ने से भी रोकती है।
  • इसका सेवन स्मरण शक्ति को बढ़ाने में भी कारगर सिद्ध होता है।
  • शिलाजीत में न्यूरोप्रोटेक्टिव के गुण मौजूद होते हैं जिस वजह से यह अल्जाइमर रोग में भी लाभकारी साबित होता है।
Source : Manisha Jayswal

बाहर निकले हुए पेट को अंदर कैसे करें?

अजनकी दिनचर्या में पर का बाहर निकलना आम बात है। आज के समय में ज्यादा कार्य कंप्यूटर और लैपटॉप पर होता है। जिसके कारण ज्यादा बैठे रहने पड़ता हैं। ज्यादा बैठे रहने से पर बाहर आने की समस्या खड़ी हो जाती हैं। लेकिन अपनी दिनचर्या और खान पीन में कुछ बदलाव करके इस बाहर निकले पेट को अंदर किया का सकता हैं -

1.सुबह सुबह गुनगुने कमी में नींबू और शहद डालकर पिएं । नींबू और शहद पेट को कम करने में बहुत असर दायक है।

२.नाश्ते में हल्का नाश्ता ही करे जैसे मूंग,मोठ,चने,बादाम आदि।हल्का नाश्ता पेट के लिए सही रहता है। तला हुआ भोजन कभी नाश्ते में नहीं करे इससे गैस की समस्या हो सकती है।

३.बार बार खाना ना खाए । आवश्यक्ता से कम खाने का अभ्यास करे। खाना खाते समय बीच बीच में पानी का सेवन नहीं करें। खाने में कम से कम एक घंटे बाद पानी पिए।

४. जितना हो सके ठंडा पानी पीने से बचे । संभव हो सके तो गरम पानी पीना शुरू कर दे ।गरम पानी पेट को साफ रखने और पर की गंदगी बाहर निकालने में मदद करता है।

५. जो भी खाए स्वच्छ खाने की कोशिश करे । तले हुए और बाहर के खाए से बचे। इससे शरीर के पोष्टिक आहार मिलता हैं और पेट साफ रहता है।

६. हल्की योगा और व्यायाम करते रहे । इसके लिए जिम जाने की जरूरत नहीं है। घर पर हल्की योगा कर सकते हैं।3–4किलोमीटर तक चले। इससे शरीर फिट रहता हैं और पेट कम होता है।

चित्र साधन गूगल

७.ग्रीन टी का सेवन करे । यह शरीर से गंदगी बाहर निकाल कर स्वच्छ करने में मदद करती है । मैं Santegrow Darjeeling Green Tea ka इस्तेमाल करती हूं। मुझे इससे बहुत फायदे भी मिले हैं । इसमें किसी तरह की कोई कड़वाहट नहीं हैं। आप इसे आजमा कर देख सकते हैं ।

८.जितना हो सके पैदल चलने का अभ्यास डाले । यह पेट अंदर करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है।

९. चाय के सेवन अगर संभव है तो बंद कर दे । चाय शरीर के लिए हानिकारक होती हैं।

इन कुछ उपायों को आजमाकर आप अपने पेट को आसानी से कम कर सकते हैं ।

Source: Priya Khurana

Tuesday, January 5, 2021

युवाओं को उनके स्वास्थ्य के बारे में आपकी क्या सलाह है?

पहले मै अपने बारे में बता दू, ये मै ही हूं

जो आज तक कभी gym नहीं गया, कभी प्रोटीन नहीं खाया, कभी 4–5 किलो दूध नहीं पिया, पर किया है तो कठोर परिश्रम और लड़कियों से दूरी बरती है। हालाकि आपको दूरी अपनी teeneage में बरतनी है, क्युकी उस वक्त आपको जिस चीज की आदत पड़ गई, उसी की लत लग जाएगी। ताउम्र के लिए। और नशे से नहीं, नशेड़ी से दूरी बरतना।

अब मै बताता हूं, ऐसा कैसे सम्भव है।

1-) अपने को HULK ya THOR समझो, और दिमाग में अपनी एक image बना लो, उसके बारे में सोचते रहो, जब भी खाली टाइम मिले,

नहीं तो बेटा पोर्न ही देखोगे, और 61–62 ही करोगे, छत पर जाकर।😉

यहां क्या concept है?

दरअसल हमारा दिमाग ऐसा बच्चा है, हुए कोई चीज चाहिए, व्यस्त रहने के लिए, नहीं तो ये अपने enjoyment के शॉर्टकट्स खोजने लगता है। जैसे_ लड़कियों की fingure dkh कर, कुछ कुछ सोचेगा। अगर तभी आप अपने आसपास के किसी रहीस की घर, गाड़ी, बंगले को देखो और खुद से कहो, "देख बेटा एक दिन इससे आगे निकलना है तुझे, फ़ालतू के कामों पर ध्यान मत दे"

मै शर्त लगा कर, कह सकता हूं, आपका मोजो तुरन्त शांत हो जयेगा।

2-) आपके हीरो/आइडियल ( स्वामी दयानंद सरस्वती जी, स्वामी विवेानन्द जी, जैसे लोग होने चाहिए) न की आजकल के चरस फूकने वाले नेपोकिड्स,

And lastly bhai, jo bhi युवा/युवतियां हर वकत सेक्स के बारे में सोचते रहते है, तो सुनो ये तो काम हर जीव करता है, क्या तुम सिर्फ अपना वीर्यपतन करने के लिए पैदा हुए हो, दुनिया में । सोचो विचारो।

और अकेले मत रहो। और ज्यादा ही गर्मी है तो exercise करो पसीना बहाओ।

Source : Sandeep Pal

Sunday, January 3, 2021

256 साल तक जीवित रहे चीन के ली चिंग यूएन (Li Ching Yuen) की लंबी उम्र का राज क्या था?

256 साल के ली चिंग यूयन का जन्म 3 मई 1677 को चीन के कीजियांग जिले में हुआ था और उनकी मौत 6 मई 1933 को हुई थी। ली चिंग की जिंदगी पर एक किताब लिखी गई थी, जिसका नाम 'द सीक्रेट ऑफ ली'। ली चिंग अपने समय में एक आयुर्वेद के डॉक्टर के रूप में प्रसिद्ध थे। कहते हैं कि उसने जीने का मंत्र सीख लिया था। इसलिए वह हमेशा निरोगी और फिट रहे। आओ जानते है उनकी लंबी उम्र का राज क्या था:—

ली चिंग यूयन को जब उनकी लंबी उम्र के राज के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा:—

"व्यक्ति को कुत्ते जैसी नींद लेनी चाहिए।

कबूतर की तरह बिना आलस के चलते रहना चाहिए।

कछुए की तरह आराम से बैठना चाहिए।

अपने दिल को हमेशा शांत रखना चाहिए।"

वह रोजाना किगोंग (Qigong) नामक कसरत करते थे और इसकी तकनीक में बहुत कुशल थे।

मन की शांति और बेहतरीन श्वास को लंबी उम्र का राज मानते थे।

वह इस बात को भली-भांति जानते थे कि ज़िंदगी में व्यायाम और डाइट का बहुत बड़ा हाथ होता है। वो मन और तन की शांति को लंबी उम्र तक जीने का सबसे बड़ा राज मानते थे।

वह कई तरह की जड़ी-बूटियों के साथ-साथ चावल से बनी शराब को भोजन के रूप में लेते थे।

वह अपना जीवन पहाड़ों में खुले वातावरण में बिताना पसंद करते थे और अपने आप को हमेशा खुश रखने को लंबी उम्र का राज मानते थे।

लंबी उम्र के लिए वह कई जड़ी-बूटियों का उपयोग किया करते थे। वह इस प्रकार हैं:—

जंगली जिनसेंग का उपयोग उम्र के लिए एक चीनी पारंपरिक दवा के रूप में किया जाता है। इनमें कुछ यौगिक और एंटी ऑक्सिडेंट होते हैं जो कई स्वास्थ्य समस्याओं को रोक सकते हैं। यह जड़ी-बूटियाँ प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देती है और कैंसर को रोकती है। ऊर्जा के स्तर को बढ़ाती है और रक्त शर्करा के स्तर को कम करती है।

शू वू का उपयोग स्वास्थ्य समस्याओं को ठीक करने के लिए एक चीनी पारंपरिक दवा के रूप किया जाता है और जीवनकाल को बढ़ाता है। प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और स्वास्थ्य और गुर्दे के स्वास्थ्य में सुधार के लिए लाभकारी है। इसके जीवाणुरोधी गुण शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करतें हैं। जिससे यह गुर्दे और यकृत को साफ करता है।

गोटू कोला को कभी-कभी जड़ी-बूटियों के राजा के रूप में जाना जाता है और पारंपरिक चीनी आयुर्वेदिक दवा में भी इसका उपयोग किया जाता है। यह जड़ी बूटी वायरल, बैक्टीरियल संक्रमण, सामान्य सर्दी, तपेदिक, चिंता, अवसाद, और कई स्वास्थ्य मुद्दों का इलाज करता है। यह आपको लंबा जीवन जीने में मदद करता है।

30 की उम्र में लड़के गंजे क्यों हो रहे हैं?

30 की उम्र में लड़को में गंजापन कुछ विशेष कारणों की वजह से होता है। आइए उन कारणों के बारे में जाना जाए -

  • आजकल के बिजी लाइफस्टाइल और गलत खानपान की वजह से 30 की उम्र में लड़कों में गंजेपन की समस्या हो जाती है।
  • इसके अलावा गर्म पानी से शॉवर लेने से भी बाल बहुत ज्यादा झड़ने लगते है। इससे स्कैल्प को काफी नुकसान होता है। गर्म पानी स्कैल्प के नेचुरल ऑयल को कम कर स्किन को ड्राई बना देता है।
  • शराब पीने और धूम्रपान करने से भी बाल तेजी से झड़ते है। सिगरेट और शराब में मौजूद टॉक्सिन बालों को काफी नुकसान पहुचाते हैं।
  • फैशन के चक्कर में लड़के बालों में तेल नहीं लगाते हैं। जिससे 30 की उम्र तक जाते जाते गंजेपन की समस्या दिखाई देने लगती है।
  • गंजेपन की समस्या का एक अन्य महत्वपूर्ण कारण अत्यधिक तनाव लेना भी है। अत्यधिक स्ट्रेस लेने से भी बाल तेजी से झड़ने लगते हैं जिससे कुछ ही दिनों में गंजेपन की नौबत तक आ जाती है।

Tuesday, December 29, 2020

शहद में डुबा हुआ लहसुन सुबह खाली पेट खाना स्वास्थ्य के लिए इतना लाभकारी क्यों माना जाता है?

शहद में डुबा हुआ लहसुन खाली पेट खाना स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी माना गया है। आओ जानते हैं:—

शहद में डुबे हुए लहसुन की 2-3 कलियों को सर्दियों के दिनों में खाली पेट खाने से शारीरिक कमजोरी हमेशा के लिए ठीक हो जाती है और बड़ी हुई चर्बी भी कम होती है। यह सेक्सुअल लाइफ को प्रभावित करता है और सकारात्मक असर दिखाता है।

इसका सेवन करने से असमय ही बुढ़ापे का शिकार होने से बचा जा सकता है। बुढ़ापे का अर्थ है कि धमनियों को सिकुड़ कर रोग-ग्रसत हो जाना। यह धमनियों को सिकुड़ने से बचाता है और जमे हुए कोलेस्ट्रॉल को बाहर निकाल पुनः ठीक कर देता है।

शहद में डूबे हुए लहसुन में भरपूर मात्रा में ऐसे तत्व पाए जाते हैं जिसके सेवन करने से शरीर में गर्मी आती हैं। जिससे सर्दी-जुकाम जैसी समस्या से निजात पाई जा सकती है और साइनस की समस्या भी काफी कम हो जाती है।

शहद में डुबे लहसुन में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते है जिससे गले में खराश और सूजन से राहत मिलती है।

अस्‍थमा रोगियों के लिए तो लहसुन और शहद किसी वरदान से कम नहीं है।

शहद में डूबा हुआ लहसुन हार्ट से सम्बंधित लोगों के लिए बहुत ही लाभकारी माना गया है। इसके कुछ महीने सेवन से हार्ट में होने वाले ब्लॉकेज से छूटकारा पाया जा सकता है। दिल की धमनियों में जमा फैट बाहर निकल जाता है। जिसके कारण रक्त संचार ठीक ढंग से होने लगता हैं, जो दिल के लिए फायदेमंद हैं।

अगर आपको बार-बार डायरिया की समस्या होती है, तो इसे लेना आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता हैं।

इसका सेवन करने से पाचन क्रिया ठीक ढंग से काम करती है जिससे पेट संबंधी किसी भी प्रकार का इंफेक्‍शन नहीं होता हैं।

इन दोनों में एंटीबैक्टीरियल गुण होते है, जो फंगल इंफेक्शन को दूर करने का काम करते है।

शहद में डूबा लहसुन लेने से इम्यूनिटी मजबूत होती है। जिससे कई बीमारीयों से छुटकारा पाया जा सकता है।

यह एक प्राकृतिक डिटॉक्स है। इसको खाने से शरीर की अंदर से सफाई हो जाती है। जिसके कारण स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है।

लहसुन और शहद में मौजूद फास्फोरस से दांत मजबूत रहते है। यह दांतों से जुड़ी कई समस्याओं को दूर करने का काम करता है।

इनमें फाइबर, कैल्शियम, फस्फोरस आदि तत्व होते हैं जो दांत, बाल और हड्डियों को मजबूत करने में मदद करते हैं।

लहसुन की कलियों का छिलका उतारकर शहद की छोटी शीशी में इतनी डालें कि वह शहद में पूरी तरह डूब जाए। लहसुन की 2–3 कलियों को सुबह खाली पेट सेवन करें और 45 मिनट बाद ही कुछ खाए।

Tuesday, December 8, 2020

प्रतिदिन व्यायाम करते समय हम कौन-कौन सी गलतियां करते हैं?

ऐसे बहुत से लोग हैं जो व्यायाम करते वक्त या फिर व्यायाम से पहले या बाद में बहुत ही गलतियां करते हैं तो चलिए उन गलतियों के बारे में जानते हैं।

  1. खाली पेट व्यायाम करना :यह सबसे बड़ी गलती है। कभी भी खाली पेट व्यायाम नहीं करना चाहिए। खाली पेट में जिम करने से आपको और ज्यादा वीकनेस होती है। कुछ लोग जो वजन कम करना चाहते हैं,वह सोचते हैं कि खाली पेट व्यायाम करने से उनका वजन जल्दी कम होगा लेकिन ऐसा नहीं है।

2.व्यायाम करने के बाद कोई अच्छी मील ना लेना। ऐसे बहुत से लोग हैं जो व्यायाम करने के बाद कुछ अच्छा पोष्टिक आहार नहीं लेते ।प्रोटीन शेक या फिर प्रोटीन का आहार जैसे कि अंडा इत्यादि नहीं खाते जिससे उन्हें अच्छी रिकवरी नहीं होती और मनचाहे रिजल्ट नहीं मिलते।

अब बात करते हैं कि जिम में लोग कौन-कौन सी गलतियां करते हैं? जिम में लोग बहुत ही ऐसी गलतियां करते हैं। जीने नहीं करना चाहिए जैसे की

*पहले दिन से जाकर क्षमता से अधिक भार उठाने लगते हैं।

* स्ट्रैचिंग किए बिना ही व्यायाम करने लगते हैं जो कि नहीं करना चाहिए। बिना स्ट्रैचिंग के आपको इंजरी हो सकती है या फिर स्ट्रेच मार्क्स आ सकते हैं।

*ईगो वर्क आउट किया जाता है। किसी को देखकर उसके जितना भार उठाना। कभी-कभी हम लोग ऐसा करते हैं कि किसी और को देखकर ईष्र्या में ज्यादा वजन उठाने लगते हैं, लेकिन हमारी बॉडी में उतना वजन उठाने की क्षमता नहीं होती।

*प्रोटीन सप्लीमेंट को सस्टेरॉयड। हम जिस देश भारत में रहते हैं वहां पर ऐसे बहुत से लोग हैं जो आज भी प्रोटीन को या फिर व्हेय प्रोटीन को स्टेरॉयड समझते हैं और नहीं खाते जिससे उन्हें अच्छा रिजल्ट नहीं मिलता।

*हर हफ्ते अपना वर्कआउट रूटीन बदल लेते हैं। अगर किसी ने कहा कि ऐसा करो तो वैसा करने लगते हैं। यूट्यूब पर वीडियो देख कर किसी और को फॉलो करने लगते हैं।

तो ये कुछ नॉर्मल सी गलतियां हैं जो कि आजकल के युवा जिम वकआउट में करते हैं।

फ़ोटो:गूगल

Source :Ravindra

Saturday, October 31, 2020

फिट रहने के क्या तरीक़े हैं?

स्वस्थ रहने के लिए संतुलित खान - पान और नियमित दिनचर्या का पालन करना बहुत जरूरी है | खान - पान और दिनचर्या का स्वास्थ्य से सीधा सम्बन्ध है | आज हम कुछ सामान्य सी छोटी - छोटी ऐसी बातों को जानेंगे, जिनका पालन करके हमेशा स्वस्थ रह सकते हैं |

➤ प्रातःकाल सूर्योदय से पहले हर हाल में उठ जाएँ | देर तक सोना सेहत के लिए ठीक नहीं है |

➤ सुबह उठते ही बासी मुँह आधा से एक लीटर गुनगुना पानी पिएँ | उसके बाद शौंच के लिए जाएँ |

➤ आधे से एक घंटे प्रतिदिन सुबह - शाम टहलने की आदत डालें | नियमित रूप से आधे से एक घंटे योग, प्राणायाम और व्यायाम करें |

➤ रात का खाना सोने से डेढ़ - दो घंटे पहले अवश्य खा लें और खाने के बाद कुछ देर धीरे - धीरे चहलकदमी करें |

➤ भोजन में मौसम के ताजे फल और हरी सब्जियों को अवश्य शामिल करें | भरपूर मात्रा में सलाद का सेवन करें | सलाद स्वच्छ और ताजी कटी हुई हो |

➤ खाना खाने के बाद थोड़ा सा गुड़ खाएँ |

➤ बिना छाने हुए चोकरयुक्त आटे की रोटी खाएँ | चोकर में फाइबर अधिक होता है |

➤ हमेशा अपनी भूख से दो निवाले कम खाएँ और हो सके तो सप्ताह में एक दिन उपवास रखें |

➤ भोजन ताजा, हल्का और सुपाच्य हो | बासी, भारी और गरिष्ठ भोजन करने से बचें |

➤ खाना खाते समय पूरा ध्यान भोजन पर केंद्रित रखें और भोजन का मजा ले - लेकर खाएँ | जो भोजन प्रेम से बनाया जाता है, प्रेम से परोसा जाता है और प्रेम से शांतिपूर्वक खाया जाता है, वह अधिक गुणकारी और सुपाच्य होता है |

➤ सुबह के नाश्ते में अंकुरित किए हुए अनाज शामिल करें | अंकुरित नाश्ते के लिए चना, मूँग, सोयाबीन, मूँगफली, मेथी आदि उपयुक्त हैं |

➤ सात - आठ घंटे की भरपूर नींद लें |

➤ भोजन करते समय बीच - बीच में पानी न पिएँ | बहुत जरूरी होने पर ही एक - दो घूँट पानी पिएँ | उपलब्ध हो तो भोजन के साथ एक गिलास छाछ लेकर बैठें और बीच - बीच में पीते रहें | भोजन के बीच में पानी पीना कब्ज, गैस व एसिडिटी का कारण बनता है | भोजन समाप्त करने के एक से डेढ़ घंटे बाद भरपूर मात्रा में पानी पिएँ |

➤ भोजन करते समय न तो बातें करे, न किसी मुद्दे पर बहस करें, न टी. वी. देखें, न क्रोध करें | झुँझला कर, क्रोधपूर्वक, बेमन से, अरूचिपूर्वक और जल्दबाजी में किया गया भोजन अपच करता है तथा गैस व एसीडिटी का कारण बनता है |

➤ तली - भुनी चीजें, फास्ट फ़ूड और डिब्बा बंद चीजें खाने से बचें | भोजन में अधिक मिर्च - मसालों का प्रयोग न करें |

➤ लगातार एक ही तरह का भोजन न करें | उसमें ऋतु और मौसम के अनुसार बदलाव करते रहें |

➤ अपनी दिनचर्या को नियमित रखें, अर्थात सोने, जागने, नहाने, धोने, खाने, पीने, टहलने और योग, व्यायाम आदि का समय निश्चित करें |

➤ अपने कपड़ों, शरीर और परिवेश आदि की स्वच्छता का विशेष ध्यान रखें |

➤ हमेशा घर का बना हुआ भोजन करें | बाहर के खाने से बचें |

➤ भोजन करने से पहले साबुन से हाथ धोना न भूलें |


Source: लायक राम

Sunday, October 11, 2020

What are some basic exercises to stay fit?

Here is a list of exercises that I try to do everyday:

  1. Plank

  1. Lunges

  1. Squats

  1. Bulgarian Split Squats

  1. Push ups

  1. Skipping

  1. Single leg Calf raise

With the help of resistance bands

  1. Bicep curls

  1. Side Lateral for shoulders (you can do front raises as well)

  1. Resistance Training for legs

Source : Harshit Sharma (Fitness Enthusiast)

Thursday, October 8, 2020

स्वस्थ रहने की 10 अच्छी आदतें क्या हो सकती हैं?

1 – कब्ज से बचें

जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं लगभग सभी बीमारियों की जड़ हमारा पेट होता है ! इसलिए हमेशा अपने पेट को साफ रखने की कोशिश करनी चाहिए ! अगर पेट साफ ना होने की समस्या लगातार बनी रहे तो तमाम बीमारियां उत्पन्न होने लगती हैं ! जैसे हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, सिर दर्द, शरीर दर्द, डिप्रेशन, तनाव इत्यादि ! पेट साफ रखने से इन सब बीमारियों से बचा जा सकता है !

2 – मॉर्निंग वॉक पर जाएं

रोजाना जल्दी सुबह 5:00 बजे (सूर्योदय के पूर्व) जगें और तीन-चार किलोमीटर टकलें ! और सूर्योदय के समय सूर्य नमस्कार आसन करें ! इससे शरीर में एक नई ताजगी और ऊर्जा का संचार होगा और आप पूरा दिन अच्छा महसूस करेंगे !

3 – व्यायाम करें

सुबह के समय हल्के-फुल्के व्यायाम या जांगीग करने से शरीर में लचीलापन आता है ! और शरीर में रक्त संचार सुचारू रूप से होता है ! जो स्वस्थ रहने के लिए अति आवश्यक है हल्के व्यायाम करने से मांसपेशियों को बल प्राप्त होता है और इंद्रियां भी मजबूत बनती हैं !

4 – काला नमक का सेवन करें

सफेद नमक के सेवन से अनेकों प्रकार की बीमारियां होती हैं ! जैसे हाई ब्लड प्रेशर डायबिटीज थायराइड इत्यादि ! इसकी जगह काला नमक का सेवन करके बहुत सारी बीमारियों से बचा जा सकता है ! काले नमक में खनिज तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं जिसके सेवन से स्वयं को स्वस्थ रखा जा सकता है !

5 – ओम का उच्चारण करें

ओम के उच्चारण से मन (आत्मा) और परमात्मा का मिलन होता है जिसका प्रभाव शरीर पर पड़ता है मानसिक तनाव डिप्रेशन आदि समस्याएं दूर होती हैं ! साथ ही ओम के उच्चारण से शरीर में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा बनी रहती है ! यह Health tips शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करती हैं !

6 – खाने के तुरंत बाद पानी ना पिऐं

खाना खाते समय या खाने के तुरंत बाद पानी ना पिए ! खाना खाने के बाद जिगर में मंदाग्नि का निर्माण होता है ! अर्थात खाना पचाने के लिए अग्नि (HCL) हाइड्रोक्लोरिक एसिड जलती है जो खाने को पचाती है ! खाने के तुरंत बाद पानी पीने से इनके कार्यों में कमी आ जाती है और खाना अच्छी तरह नहीं पच पाता है ! जिससे पेट संबंधित कई परेशानियां होने लगती हैं !

7 – मेडिटेशन करें

मेडिटेशन करने से मस्तिष्क में कोर्टिसोल जो एक स्ट्रेस हार्मोन है उसका स्तर कम होता है ! एक स्टडी में ऐसा पाया गया कि आधे घंटे तक रोजाना मेडिटेशन करने से कोर्टिसोल हार्मोन का स्तर कम हो गया ! स्वस्थ रहने के लिए प्रतिदिन शांत वातावरण में बैठकर मेडिटेशन करना चाहिए !

8 – जीवन में एक लक्ष्य रखें

अपने जीवन में एक निर्धारित लक्ष्य अवश्य रखें और उस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए हमेशा तत्पर रहे ! ऐसा करने से आपको एक मोटिवेशन प्राप्त होगा और आप अपने कार्य में निरंतर प्रगति के साथ आगे बढ़ेंगे ! लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए एक विषय सूची बनाएं इससे आपको एक एलिवेशन भी मिलेगा और आप अपने कार्य में व्यस्त रहेंगे !

9 – क्रोध पर नियंत्रण रखें

क्रोध करने से शरीर का स्वास्थ्य खराब होता है मन और तन की सुंदरता समाप्त होती है साथ ही विचारों में भी विषाक्तता आती है ! जिससे अनेकों प्रकार की शारीरिक व मानसिक बीमारियां होती हैं ! क्रोध के समय गुस्से पर संयम रखकर शारीरिक या मानसिक ऊर्जा की हानि होने से बचाएं !

10 – हल्दी युक्त दूध का सेवन करें

शरीर को स्वस्थ रखने के लिए रात्रि में खाने के बाद एक गिलास गर्म दूध में हल्दी मिलाकर जरूर पीऐ इससे शरीर में कैल्शियम और प्रोटीन की कमी दूर होती है ! यह Health tips शरीर के विष बाहर निकलते हैं और शरीर को ऊर्जा प्राप्त होती है !

Thursday, October 1, 2020

What is the cheapest way to get 100 grams of protein per day?

100 Grams of protein every day is not a tough task. If you have little understanding of basic nutrition and diet, you can make a healthy meal plan for yourself that can provide you enough protein, carbs, and essential fat.

Okay, let’s make a diet plan that can provide you 100 gm protein per day in the cheapest way.

Meal 1 (Breakfast)

Chana chat with a bowl of oats.

[img:- Sameera sood]

Ingredients:-

  • Chickpeas(100 gm)
  • kidney beans ( 50 gm)
  • Oats (50 gm)

Total Cost of Meal:- 25–30 ₹

Total Protein:- 33–36 grams

Meal 2 ( Lunch)

Soya chunks Salad

[img- Food tak]

Ingredients:-

  • Soya chunks (80 gm)
  • Peanuts (25 gm)
  • Sessional Veggies (to mix with other things)

Total Cost of Meal:- 8–10 ₹

Total Protein:- 52–55 grams

Meal 3 ( Dinner)

Paneer bhurji and Chapati(bread)

[img:- Parul mittal]

Ingredients:-

  • Paneer (100 gm)
  • Wheat flour ( for 2 roti)
  • Sessional Veggies (to make bhurji)

Total Cost of Meal:- 35–40 ₹

Total Protein:- 20–25 grams

Note:- [100gm paneer cost 25 to 30 rs in my locality, it could be different in your locality]

So This is our cheap, tasty, and super protein-rich meal plan.

Let’s take a look at the total cost and protein amount of this meal plan.

Total Cost = 40 + 10 + 30

= 80₹

Total Protein = 25 + 55 + 35

= 115 gm

You can see getting a high protein, tasty meal is not very expensive. You can have a protein rich meal/ diet in a budget as well.

Note:- I’m not saying to eat the exact same meals every day. of course, no one can eat the same for every day. That will create some other issues. This meal plan is just to give an idea about “How you can manage a good protein-rich diet with the ingredients available in your kitchen”.


Source : Ankit Kumar (Health Blogger)

Sunday, September 27, 2020

What sounds extremely wrong, but is actually correct?

Brushing your teeth after you wake up in morning is not ideal.

When Doctors say you should brush twice a day they mean that you should brush after your breakfast and dinner.

After you eat a meal or snack that contains sugar, the bacteria in plaque produce acids that attack tooth enamel. When you brush your teeth, you help remove food and plaque - a sticky white film that forms on your teeth and contains bacteria.

So if you don't brush your teeth after dinner then bacteria destroy your teeth all night (8 hours) and if you don't brush your teeth after breakfast then again they will again desintegrate your teeth all day.

If you brush your teeth after breakfast your mouth will be fresh till lunch and brushing your teeth after dinner will keep your mouth fresh all night and you don't even have to brush teeth after waking up in the morning till breakfast. Your teeth can afford time between lunch & dinner without brushing.

Understand this & aware others.

Sincerely

Please follow for more such information.

Source : Rajesh Sodhi (MBBS from PGIMS Rohtak)

Monday, September 21, 2020

जीवन के चमत्कारी रहस्य क्या हैं ?

आदमी कितना जीता है? 70 या 80 साल। बहुत अच्छी सेहत हुई तो 100 साल। इन 100 वर्षों में वह प्रारंभिक 25 वर्ष तो संसार, खुद को समझने और करियर बनाने में ही लगा देता होगा। अगले 25 वर्ष वह गृहस्थ जीवन के संघर्ष में गंवा देता होगा और अंत में सोचता होगा कि अब जिया जाए या शायद सोचता होगा कि अब सुकून से जीना चाहता हूं? हालांकि यह सोच काल और परिस्थिति के अनुसार सभी की अलग-अलग हो सकती है।

आजकल जीवन प्रबंधन के बारे में भी बहुत सुनने को मिलता है, लेकिन कितने लोग हैं, जो अपने जीवन का प्रबंधन कर सकते हैं? क्या सचमुच जीवन प्रबंधन करने के बाद जीवन वैसे ही चलता है? हालांकि उपरोक्त लिखी गईं सभी बातें व्यर्थ हैं। हम आपको बताएंगे कि किस तरह आपका जीवन संचालित होता है और आखिर क्या है जीवन का सही रहस्य। हम आपको जीवन रहस्यों के बारे में बता रहे हैं। उस पर आप अकेले में गंभीरता से विचार करना तो हो सकता है कि वह आपको समझ में आ जाए। हालांकि अधिकतर लोग पहले से ही समझदार हैं। हम उन्हें क्या समझाएं, वे दिनभर फेसबुक, ब्लॉग और ट्विटर पर अपने ज्ञान को प्रदर्शित करते ही रहते हैं।

निरोगी काया : यदि आप स्वस्थ हैं तो ही आपका जीवन है। अस्वस्थ काया में जीवन नहीं होता। व्यक्ति 4 कारणों से अस्वस्थ होता है : पहला मौसम-वातावरण से, दूसरा खाने-पीने से, तीसरा चिंता-क्रोध से और चौथा अनिद्रा से।

मौसम और वातावरण आपके वश में नहीं, लेकिन घर और वस्त्र हों ऐसे कि वे आपको बचा लें। घर को आप वस्तु अनुसार बनाएं। हवा और सूर्य का प्रकाश भीतर किस दिशा से आना चाहिए, यह तय होना चाहिए ताकि वह आपकी बॉडी पर सकारात्मक प्रभाव डाले।

खाना-पीना आपके हाथ में है अत: उत्तम भोजन और उत्तम जल जरूरी है। हर तरह के नशे से दूर रहने की बात भी आप जानते ही होंगे। आहार के साथ उपवास भी जरूरी है। उपवास के लिए विशेष दिन और माह नियुक्त हैं।

चिंता और क्रोध करने की भी आदत हो जाती है शराब पीने की तरह। मनोवैज्ञानिक कहते हैं कि नशा करके व्यक्ति चिंता में तो हो ही जाता है और वह चिड़चिड़ा भी हो जाता है। ये दोनों ही आदतें आपके शरीर को जल्द से जल्द बूढ़ा बना देंगी और साथ ही आप अपने परिवार को भी खो देंगे।

अब जहां तक चौथे कारण का सवाल है, ऐसे में कहना होगा कि उपरोक्त तीन है तो चौथा हो ही जाएगा। उत्तम नींद संजीवनी दवा के समान होती है। मानसिक द्वंद्व, चिंता, दुख, शोक, अनावश्यक बहस, अनावश्यक विचार आदि सभी से श्वासों की गति अनियंत्रित हो जाती है जिसके चलते नींद उड़ जाती है। इससे मुक्ति का सरल उपाय है प्राणायाम और ध्यान। हालांकि आप और कुछ भी कर सकते हैं।

आपने दुनियाभर की किताबें पढ़ी होंगी या घर में रखी होंगी, लेकिन क्या आपके घर में ऐसी किताबें हैं, जो आपको सेहतमंद और चिंत्तामुक्त बने रहने के उपाय बताती हों? जीवनभर आपने स्कूल और कॉलेज में जो पढ़ा है और कठिन मेहनत करके जो कमाया है, वह अस्पताल में जाकर सब व्यर्थ सिद्ध हो जाने वाला है।

आपको घर में रखना चाहिए घरेलू नुस्खों की कई किताबें, आयुर्वेद और योग से संबंधित किताबें, सीडी आदि। इसके अलावा सबसे जरूरी वे किताबें है जिनके माध्यम से आपको आपके शरीर और दवाओं का ज्ञान होता हो। आपके शरीर के भीतर के अंग कौन-कौन-से हैं और वे किस तरह कार्य करते हैं और उन्हें कौन-से भोजन और व्यायाम की जरूरत है, यह भी जानना जरूरी है। हालांकि आप फेसबुक पर चलने वाली व्यर्थ की बातें जानने में ज्यादा उत्सुक रहते होंगे?

चाहें तो योग करें, पैदल चलें, तैराकी करें या कसरत करें। 24 घंटे में से 1 घंटा शरीर को स्वस्थ रखने के लिए देना चाहिए। जिस शरीर में आपको 70-80 साल रहना है, निश्‍चित ही आप उसके लिए कुछ तो करेंगे। यदि यह नहीं कर पाएं तो कम से कम उसके भीतर कचरा तो मत डालिए।

जेब में हो माया : हमारे ऋषि-मुनि कह गए हैं, 'पहला सुख निरोगी काया, दूसरा सुख जेब में हो माया।' धन कमाना जीवन में बहुत जरूरी होता है और सभी यह कार्य करते भी हैं। कुछ लोग कड़ी मेहनत करके धन कमाते हैं और कुछ लोग स्मार्ट वर्क करके धन कमाते हैं। धन कमाने के अच्छे रास्ते भी हैं और बुरे भी।

अच्छे रास्ते से कमाया गया धन ही आपके जीवन को संतुष्ट कर सकता है अन्यथा आप शायद नहीं जानते हैं कि बुरे रास्ते का धन बुराई में ही समाप्त हो जाता है। ऐसे लोग जेलखाने, दवाखाने या पागलखाने में ही मिलते हैं।

धनवान बनने के गुप्त रहस्य के बारे में जानने से अच्छा है कि आप प्रैक्टिकल तरीके से इसके बारे में सोचें। हालांकि लोग कहते हैं कि अपार धन कमाने का कोई शॉर्टकट नहीं होता और सारे शॉर्टकट मार्ग जेल में जाकर ही खत्म होते हैं। लेकिन यह भी सही है कि आपका मार्ग सही है, तो उसे शॉर्टकट बनाया जा सकता है।

आपकी योग्यता ही सबसे बड़ी दौलत है। आप जितने योग्य और कार्यकुशल होंगे, आपके मार्ग की बाधाएं समाप्त होती जाएंगी। धन कमाने के शॉर्टकट मार्ग वे ही लोग ढूंढते हैं, जो अयोग्य हैं। आप सीखें वह सब कुछ जिसके माध्यम से धन कमाया जा सकता है। योग्य व्यक्ति की संसार को जरूरत है।

जैसी सोच, वैसा भविष्य : भगवान बुद्ध कहते हैं कि आज आप जो भी हैं, वह आपके पिछले विचारों का परिणाम है। विचार ही वस्तु बन जाते हैं। इसका सीधा-सा मतलब यह है कि हम जैसा सोचते हैं, वैसे ही भविष्य का निर्माण करते हैं। यही बात 'दि सीक्रेट' में भी कही गई है और यही बात धम्मपद, गीता, जिनसूत्र और योगसूत्र में कही गई है। इसे आज का विज्ञान 'आकर्षण का नियम' कहता है।

संसार को हम पांचों इंद्रियों से ही जानते हैं और कोई दूसरा रास्ता नहीं। जो भी ग्रहण किया गया है, उसका मन और मस्तिष्क पर गहरा प्रभाव पड़ता है। उस प्रभाव से ही 'चित्त' निर्मित होता है और निरंतर परिवर्तित होने वाला होता है। इस चित्त को समझने से ही आपके जीवन का खेल आपको समझ में आने लगेगा। अधिकतर लोग अब इसे समझकर अच्‍छे स्थान, माहौल और लोगों के बीच रहने लगे हैं। वे अपनी सोच को बदलने के लिए ध्यान या पॉजिटिव मोटिवेशन की क्लासेस भी जाने लगे हैं।

वैज्ञानिक कहते हैं कि मानव मस्तिष्क में 24 घंटे में लगभग 60,000 विचार आते हैं। उनमें से ज्यादातर नकारात्मक होते हैं। नकारात्मक विचारों का पलड़ा भारी है तो फिर भविष्य भी वैसा ही होगा और यदि ‍मिश्रित विचार हैं तो मिश्रित भविष्य होगा। अधिकतर लोग नकारात्मक फिल्में, न्यूज, सीरियल और गाने देखते रहते हैं इससे उनका मन और मस्तिष्क वैसा ही निर्मित हो जाता है। वे गंदे या जासूसी उपन्यास पढ़कर भी वैसा ही सोचने लगते हैं। आजकल तो इंटरनेट हैं, जहां हर तरह की नकारात्मक चीजें ढूंढी जा सकती हैं। न्यूज चैनल दिनभर नकारात्मक खबरें ही दिखाते रहते हैं जिन्हें देखकर सामूहिक रूप से समाज का मन और मस्तिष्क खराब होता रहता है।

जैसी मति, वैसी गति : 3 अवस्थाएं हैं- 1. जाग्रत, 2. स्वप्न और 3. सुषुप्ति। उक्त 3 तरह की अवस्थाओं के अलावा हमने और किसी प्रकार की अवस्था को नहीं जाना है। जगत 3 स्तरों वाला है- एक, स्थूल जगत जिसकी अनुभूति जाग्रत अवस्था में होती है। दूसरा, सूक्ष्म जगत जिसका हम स्वप्न में अनुभव करते हैं तथा तीसरा, कारण जगत जिसकी अनुभूति सुषुप्ति में होती है।

उक्त तीनों अवस्थाओं में विचार और भाव निरंतर चलते रहते हैं। जो विचार धीरे-धीरे जाने-अनजाने दृढ़ होने लगते हैं और वे धारणा का रूप धर लेते हैं। चित्त के लिए अभी कोई वैज्ञानिक शब्द नहीं है लेकिन मान लीजिए कि आपका मन ही आपके लिए जिन्न बन जाता है और वह आपके बस में नहीं है, तब आप क्या करेंगे?

धारणा बन गए विचार ही आपके स्वप्न का हिस्सा बन जाते हैं। आप जानते ही हैं कि स्वप्न तो स्वप्न ही होते हैं, उनका हकीकत से कोई वास्ता नहीं फिर भी आप वहां उस काल्पनिक दुनिया में उपस्थित होते हैं।

इसी तरह बचपन में यदि यह सीखा है कि आत्मा मरने के बाद स्वर्ग या नर्क में जाती है और आज भी आप यही मानते हैं तो आप निश्‍चित ही एक काल्पनिक स्वर्ग या नर्क में पहुंच जाएंगे। यदि आपके मन में यह धारणा बैठ गई है कि मरने के बाद व्यक्ति कयामत तक कब्र में ही लेटा रहता है, तो आपके साथ वैसा ही होगा। हर धर्म आपको एक अलग धारणा से ग्रसित कर देता है। हालांकि यह तो एक उदाहरण भर है। धर्म आपके चित्त को एक जगह बांधने के लिए निरंतर कुछ पढ़ने या प्रार्थना करने के लिए कहता है ताकि आप समूह के आकर्षण में बंधकर उसे ही सच मानने लगो।

वैज्ञानिकों ने आपके मस्तिष्क की सोच, कल्पना और आपके स्वप्न पर कई तरह के प्रयोग करके जाना है कि आप हजारों तरह की झूठी धारणाओं, भय, आशंकाओं आदि से ग्रसित रहते हैं, जो कि आपके जीवन के लिए जहर की तरह कार्य करते हैं। वैज्ञानिक कहते हैं कि भय के कारण नकारात्मक विचार बहुत तेजी से मस्तिष्क में घर बना लेते हैं और फिर इनको निकालना बहुत ही मुश्किल होता है।

जाति स्मरण : हालांकि यह एक ऐसी बात है जिस पर आप ध्यान न भी देंगे तो भी आपके जीवन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ने वाला है, लेकिन ऐसी भी जानकारी होना चाहिए इसीलिए इसे यहां लिखा जा रहा है।

हमारा संपूर्ण जीवन स्मृति-विस्मृति के चक्र में फंसा रहता है। आप खुद या दूसरों को भी यादों के माध्यम से ही जान पाते हों। उम्र के साथ स्मृति का घटना शुरू होता है, जो कि एक प्राकृतिक प्रक्रिया है अगले जन्म की तैयारी के लिए।

यदि मोह-माया या राग-द्वेष ज्यादा है, तो समझो स्मृतियां भी मजबूत हो सकती हैं। व्यक्ति स्मृति-मुक्त तभी होता है जबकि प्रकृति उसे दूसरा गर्भ उपलब्ध कराती है, लेकिन पिछले जन्म की सभी स्मृतियां बीज रूप में कारण शरीर के चित्त में संग्रहीत रहती हैं। विस्मृति या भूलना इसलिए जरूरी होता है कि यह जीवन के अनेक क्लेशों से मुक्ति का उपाय है।

कैसे जानें पूर्व जन्म को : योग में पूर्व जन्म ज्ञान सिद्धि योग के बारे में विस्तार से बताया गया है। इसे जाति स्मरण का प्रयोग भी कहा जाता है। इस योग की साधना करने से व्यक्ति को अपने अगले-पिछले सारे जन्मों का ज्ञान होने लगता है। योग कहता है कि ‍सर्वप्रथम चित्त को स्थिर करना आवश्यक है तभी इस चित्त में बीज रूप में संग्रहीत पिछले जन्मों का ज्ञान हो सकेगा। चित्त में स्थित संस्कारों पर संयम करने से ही पूर्व जन्म का ज्ञान होता है। चित्त को स्थिर करने के लिए सतत ध्यान क्रिया करना जरूरी है।

ध्यान को जारी रखते हुए आप जब भी बिस्तर पर सोने जाएं, तब आंखें बंद करके उल्टे क्रम में अपनी दिनचर्या के घटनाक्रम को याद करें। जैसे सोने से पूर्व आप क्या कर रहे थे? फिर उससे पूर्व क्या कर रहे थे? तब इस तरह की स्मृतियों को सुबह उठने तक ले जाएं।

दिनचर्या का क्रम सतत जारी रखते हुए 'मेमोरी रिवर्स' को बढ़ाते जाएं। ध्यान के साथ इस जाति स्मरण का अभ्यास जारी रखने से कुछ माह बाद जहां मेमोरी पॉवर बढ़ेगा, वहीं नए-नए अनुभवों के साथ पिछले जन्म को जानने का द्वार भी खुलने लगेगा।

स्वाध्याय : स्वाध्याय का अभ्यास आपको मनचाहा भविष्य देता है। स्वाध्याय का अर्थ है स्वयं का अध्ययन करना, अच्छे विचारों का अध्ययन करना और इस अध्ययन का अभ्यास करना।

आप स्वयं के ज्ञान, कर्म और व्यवहार की समीक्षा करते हुए पढ़ें वह सब कुछ जिससे आपके जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता हो, साथ ही आपको इससे खुशी ‍भी मिलती हो। तो बेहतर किताबों को अपना मित्र बनाएं।

जीवन को नई दिशा देने की शुरुआत आप छोटे-छोटे संकल्प से कर सकते हैं। संकल्प लें कि आज से मैं बदल दूंगा वह सब कुछ जिसे बदलने के लिए मैं न जाने कब से सोच रहा हूं। अच्छा सोचना और महसूस करना स्वाध्याय की पहली शर्त है।

ईश्वर प्राणिधान : वेद कहते हैं कि सिर्फ एक ही ईश्वर है जिसे ब्रह्म या परमेश्वर कहा गया है। इसके अलावा और कोई दूसरा ईश्वर नहीं है। ईश्वर निराकार है, यही अद्वैत सत्य है। ईश्वर प्राणिधान का अर्थ है- ईश्वर के प्रति पूर्ण समर्पण, ईश्वर के प्रति पूर्ण विश्वास। न देवी, न देवता, न पीर-फकीर, न ज्योतिष और न ही गुरु घंटाल। यदि आप मर्द हो तो राहू, केतु या शनि से डरने की जरूरत नहीं। हाथ की अंगूठियां और गले का ताबीज निकालकर फेंक दें। वेद कहते हैं कि असुरक्षा से ही जीवन पैदा होता है और आत्मा बलवान बनती है।

एक ही ईश्वर के प्रति अडिग रहने वाले के मन में दृढ़ता आती है। यह दृढ़ता ही उसकी जीत का कारण है। चाहे सुख हो या घोर दुःख, उसके प्रति अपनी आस्था को डिगाएं नहीं। इससे आपके भीतर पांचों इन्द्रियों में एकजुटता आएगी और लक्ष्य को भेदने की ताकत बढ़ेगी। वे लोग जो अपनी आस्था बदलते रहते हैं, भीतर से कमजोर होते जाते हैं।

विश्वास रखें सिर्फ 'ईश्वर' में, इससे बिखरी हुई सोच को एक नई दिशा मिलेगी और जब आपकी सोच सिर्फ एक ही दिशा में बहने लगेगी तो वह धारणा का रूप धर उसकी तस्वीर ब्रह्मांड में ईश्वर के पास पहुंच जाएगी। ईश्वर उस तस्वीर को मूर्तरूप देकर आपके पास लौटा देगा। ब्रह्मांड में दूरस्थ स्थित ब्रह्म ही सत्य है।

अभ्यास :

करत-करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान।

रसरी आवत-जात के, सिल पर परत निशान।।

अभ्यास के बल पर मूर्ख भी बुद्धिमान हो जाता है, अज्ञानी भी ज्ञानी हो जाता है। इतिहास साक्षी है कि अभ्यास एवं परिश्रम के बल पर असंभव दिखाई देने वाले कार्य भी संभव हो जाते हैं। ऋषि-मुनियों की सिद्धियां, वैज्ञानिकों के आविष्कार, राजाओं की विजय गाथाएं- सब इसी का प्रमाण हैं कि यदि मनुष्य हिम्मत न हारे और निरंतर अभ्यास और प्रयास करता रहे तो फिर 'असंभव' शब्द के लिए कहीं स्थान नहीं। बार-बार एक ही काम को कर उसमें निपुण होने का प्रयास ही अभ्यास है।

अभ्यास एक ऐसा माध्यम है जिससे कठिन से कठिन कार्य में कुशलता पाई जा सकती है। जीवन में आप जो भी अच्छा जानते हैं और करना चाहते हैं, उसका अभ्यास करते रहिए। जीवन में अभ्यास की लगातार जरूरत पड़ती रहती है।

आप यदि शुरुआत में प्रतिदिन मन मारकर रोज 6 बजे उठते हैं तो कुछ दिनों बाद 6 बजे उठने का आपको अभ्यास हो जाता है। बाद में यदि आप न भी उठेंगे तो आपकी नींद ठीक 6 बजे ही खुल जाएगी। इसी तरह जन्म और मृत्यु आपके अभ्यास का ही परिणाम है। जिंदगीभर आप किस तरह जिए? अनुशासन में जिये या कि अराजक तरीके से? आपके इस तरीके के अभ्यास से ही आपकी मृत्यु होगी अर्थात अंत में परिणाम निकलेगा। अच्छे अंत से अच्छी शुरुआत भी होती है और अच्छी शुरुआत से अच्छा अंत।

जन्म और मृत्यु के रहस्य को समझना है, तो आप वर्तमान में जी रहे जीवन को समझें। आपकी आदतें, कर्म, अभ्यास, विचार आदि सभी चित्त में इकट्ठे हो रहे हैं। सभी के सम्मिलित प्रभाव से ही परिणाम निकलेगा। आपकी नींद खुलने का जब समय होता है, अधिकतर मौके पर तब ही आपके जन्म लेने का समय होगा इसलिए अभ्यास के महत्व को समझें। पुराने लोग अपनी दिनचर्या को सुधारते थे और उसी के अनुसार जीवन-यापन करते थे।

अभ्यास का महत्व समझें। अभ्यास व्यक्ति को परिपूर्ण और योग्य बनाता है। ऑफिस में, घर में या अन्य कहीं पर भी आप कोई-सा भी कार्य कर रहे हैं, उसे मन लगाकर करना जरूरी है। कोई-सा भी कर्म खाली नहीं जाता है। अभ्यास का अर्थ है- एक ही प्रक्रिया को बार-बार, निरंतर दोहराना। दोहराने की इस प्रक्रिया के चलते त्रुटियां होने की गुंजाइश समाप्त हो जाती है। अच्छा अभ्यास करें।

सांप्रदायिकता और साम्यवाद से बचें : ये दोनों ही तरह की विचारधाराएं जीवन और देश विरोधी हैं। यदि आप अपने जीवन, अपने परिवार और अपने देश से प्यार करते हैं तो इन घातक विचारधाराओं से बचें। आपके द्वारा फैलाई गए सांप्रदायिक विचार से देश का भला नहीं होगा। आप धार्मिक विचार फैलाने के लिए स्वतंत्र हैं। धार्मिक होना और सांप्रदायिक होना दोनों अलग-अलग बातें हैं। धार्मिक बनने के लिए कथित रूप से किसी धर्म, संप्रदाय या संगठन की जरूरत नहीं होती। संगठन विचारधाराओं के होते हैं। धर्म और साम्यवाद एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।

विचारधाराएं दो तरह की होती हैं- एक भ्रमपूर्ण और दूसरी स्पष्ट। स्पष्ट विचारधारा में कायदे, हुक्म और पाबंदियां होती हैं, जबकि भ्रमपूर्ण विचारधारा खुद को लोकतांत्रिक और सहिष्णु मूल्यों को प्रस्तुत कर लोगों को कन्फ्यूजन और निर्णयहीनता की स्थिति में डाल देती है। ऐसे व्यक्ति के मन में अराजक और कमजोर विचार होते हैं। कन्फ्यूज मस्तिष्क में दृढ़ता नहीं, भय और शंका ही हो सकती है।

साम्यवादी विचारधारा अमीर और गरीबों के नाम पर उनके बीच एक साफ लकीर खींचकर लोगों को लोगों के खिलाफ खड़ा करती है। इस तरह से यह विचारधारा इस बात का एहसास दिलाती है कि वे एक एलीट-ग्रुप का हिस्सा हैं, जो दुनिया को बचाने का काम कर रहे हैं। दुनिया तभी बचेगी, जब सभी लोग समान हो जाएंगे। इस विचारधारा में आदमी मानसिक गुलाम होता है जिस पर वह गर्व करता है। गुलाम बनने में गर्व महसूस करवाना ही इस विचारधारा का उद्देश्य रहता है। लोगों को गरीब बनाकर रखने में ही इस विचारधारा का फायदा है। साम्यवाद व्यक्ति स्वतंत्रता के खिलाफ है।

खुशी और चाहत : सफल व्यक्ति वे होते हैं, जो अपने जीवन में कुछ अच्‍छा चाहते हैं। अच्छा चाहने के लिए खुश रहना जरूरी है। यदि आपके जीवन में आपने जो चाहा, वह अभी तक मिला नहीं है तो आप उदास और निराश रहने लगेंगे जबकि ऐसा करने से आपने जो चाहा है, उसका पास आना और मुश्किल हो जाता है। खुशी और चाहत दोनों एक-दूसरे की पूरक हैं। हमेशा खुश रहना सीखें। अभ्यास से यह संभव हो सकता है।

खुश रहेंगे तो आप जीवन में जो भी सहज रूप से चाहेंगे, वह मिलता जाएगा। अत: खुशी-खुशी सपने देखो, अपना लक्ष्य बनाओ, उसके लिए योजना बनाओ और कार्य करो। कार्य करते रहो, करते रहो और करते रहो। परिणाम की चिंता मत करो।

यदि परिणाम मनचाहा नहीं मिल रहा है ‍तो पता करें कि वह कौन-सी चीज है, जो आपको पीछे की तरफ खींच रही है फिर उससे अपना पीछा छुड़ाएं। पहले आप अपनी बाधा को हटाएं।

जानकारी ही बचाव है : कुछ ऐसे विषय हैं जिनके बारे में जानते रहना चाहिए, क्योंकि वे सभी के जीवन से जुड़े हुए विषय हैं जैसे कि दवाई, डॉक्टर, आयुर्वेद, टेक्नोलॉजी, संचार माध्यम, इंटरनेट, टैक्स, कानून, समाज, धन, यात्रा, ट्रैवल कंपनी, होटल, लॉज, तीर्थ स्थल, पर्यटन स्थल, धर्म, इतिहास, अंतरराष्ट्रीय राजनीति, स्कूल, अस्पताल, शिक्षा, ऑफिस कार्य, शहर, भाषा, संस्कृति, शादी, समारोह, सरकारी सुविधाएं, जंगल, जानवर, समुद्र, पहाड़, नदी, गांव, किसी के द्वारा दी गई जानकारी, टिप्स, खास वाक्य, दोस्त, रिश्तेदार, नए कपड़े, किराने का सामान आदि ऐसी सैकड़ों बातें हैं।


Source : Shivam Sharma

कुछ भी खाओ अच्छी तरह से नहीं पचता। पाचन क्रिया को अच्छा कैसे करें?

पाचन क्रिया को सही करने के कुछ आसान से टिप्स दे रहा हूँ ।

  • खाना को अच्छे से चबा चबा कर खाएं ,ये बात सुनने में सामान्य लग रही हो लेकिन इसके फायदे जबरदस्त हैं, क्योंकि भोजन हमारे मुँह में जाते ही 50% पच जाता हैं ,बाकी का काम पेट में जाने के बाद होता हैं, अगर ठीक से भोजन को नहीं चबाया जाता हैं तो अंदर भोजन पचने में काफी मशक्कत करना पड़ता हैं ,जिससे पाचन शक्ति खराब हो जाती हैं ।
  • भोजन के बीच में एक दो घुट करकर पानी पीएं ,न एक बोतल पी लेना हैं ,और न ही बिल्कुल भी नहीं पीना हैं ।
  • खाना खाने के बाद कम से कम 100 कदम जरूर टहले जिससे अगर आंतों में फसा टुकड़ा सही जगह चला जाये । और 5 मिनट के लिए वज्रासन में जरूर बैठे ।
  • खाने के बाद एक चुटकी सौफ जरूर खाये इससे पाचन शक्ति में जबरदस्त फायदा आएगा ।
  • अपनी daily रूटीन में exercise को शामिल करें ।
  • दिन में कम से कम 5 लीटर पानी जरूर पियें ।
  • डब्बा बंद खाने को जितना हो सके इग्नोर करें ।
  • अपने भोजन में fruits को जरूर शामिल करें ।
  • अगर आपको कब्ज रहता हो तो रात में एक चम्मच त्रिफला चूर्ण गुनगुने पानी से ले काफी फायदा होगा ।
  • और अंत में ज्यादा तनाव न ले जो है अभी हैं ,न अतीत है न भविष्य इसलिए वर्तमान को बेहतर बनाये ,और आनंद में रहे ।

धन्यवाद

Saturday, September 12, 2020

टेस्टोस्टेरोन का स्तर कैसे बढ़ा सकते हैं?

टस्टोस्टरोन का स्तर बढ़ाना पुरुषों के लिए बहुत आवश्यक होता है। यह पुरुष की सम्भोग शक्ति और बच्चा पैदा करने की शक्ति पर प्रभाव डालता है। आइए जानते हैं हम इसका स्तर कोंकैसे ब ढा सकते हैं

पालक

पालक को लंबे समय से सबसे अच्छा टेस्टोस्टेरोन में से एक माना जाता है पालक मैग्नीशियम का एक प्राकृतिक स्रोत है जो टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाता है। पालक में विटामिन बी 6 और आयरन भी होता है जो दोनों बेहतरीन टेस्टोस्टेरोन बूस्टर हैं।

बादाम

बादाम में उच्च मात्रा में खनिज जस्ता होता है जो कि जस्ता की कमी वाले लोगों में टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाने के लिए जाना जाता है। जस्ता युक्त खाद्य पदार्थ खाने से इसके स्तर में बढ़ोतरी आती हैं।

नींबू

नींबू टेस्टोस्टेरोन बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ हैं। इतना ही नहीं बल्कि इसमें विटामिन ए होता है जो टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन के लिए आवश्यक होता है और यह एस्ट्रोजन के स्तर को कम करने में मदद करता है जिसका मतलब है कि टेस्टोस्टेरोन अधिक प्रभावी हो सकता है।

केले

केले में ब्रोमेलैन नामक एक एंजाइम होता है जो टेस्टोस्टेरोन के स स्तरको बढ़ाने में मदद करने के लिए जाना जाता है। केले भी ऊर्जा के स्तर को बनाए रखने और एंटीऑक्सिडेंट को कम करने के लिए उत्कृष्ट होते हैं इसलिए सही भोजन बनाते हैं।

Friday, August 28, 2020

What are 5 habits that can improve my life

  1. Moderate exercise everyday will significantly improve your quality of life.
  2. Go to bed at a reasonable time, it will help you wake up on time and feel better on a daily basis.
  3. Eat healthy, with lots of fruits and vegetables. I've actually found that this becomes very easy once you force yourself to do it for a couple of days. It's very much a habit that you can simply pick up.
  4. Managing expectations. Disappointment is the root of most of our misery.
  5. Intermittent fasting. If you practice intermittent fasting, it’s really easy to go on with your life and not gain weight, especially if you’re 25+, which I guess is the main Quora demographic.

Labels

2 step varification (3) 2014 (2) aam aadmi party (3) AAP KI SAMSYA (2) Aashiqui 2 (1) AB De Villiers (1) AB Devilliers (1) Abdul Kalam (1) Adblock plus (1) Adblocker (1) adhitz (3) admission (1) advertising (4) affair (1) Afghanistan (2) aishwarya (1) Ajay Devgan (1) Akshay kumar (1) alert (3) Alia Bhatt (1) amazon (4) america (22) amir khan (3) Amitabh bacchhan (6) Anand Kumar (1) anil ambani (2) animals (1) application (3) aptitude (2) Argentina (1) Arjun Kapoor (1) Article (57) arvind kejriwal (5) Assam (1) atcontent (11) attraction (1) Australia (5) australia cricket (6) Bang Bang (1) Bangladesh (3) Bank (1) bank exams (21) banking (1) Banks (1) Bawana Depot (2) Beauty (3) Belgium (1) benny dayal (1) bharat sarkaar (4) Big Billion Day (1) Bigg Boss (2) biology (2) biotechnology (3) Bipasha Basu (3) BJP (3) Blackberry (1) blog (3) blogger (19) blogging (17) bollywood (88) book (2) Boys/Girl (1) Boys/Girls (109) brazil (4) business (46) business studies (4) buysellads (1) Byomkesh bakshi (1) camera (1) car (1) Cars (1) cat (3) cbse (8) celebrity (18) celebs (87) champions league (1) chemistry (3) chennai express (1) Chennai Super kings (3) chetan bhagat (2) children (2) chitika (4) Christmas Day (1) chutiyapa (8) civil services (1) clickbank (1) clicksor (4) clixgalore (1) clixsense (1) coco (1) college (89) comedy circus (1) comedy nights with kapil (8) competitive exams (83) computer (6) Congress (1) content marketing (2) controversy (11) Corey Anderson (1) costa rica (1) cricket (55) crime (1) dailymotion (2) Danielle Wyatt (1) dating (1) DD national (1) Delhi (20) Delhi Daredevils (2) Delhi metro (6) Delhi technological university (6) Delhi University (3) Dev Anand (1) Dilip kumar (1) Diwali (1) doctor (2) donate (1) Download (2) download youtube videos (1) DTC (5) Earn money (53) ebay (2) ebiz (2) economics (2) Education (61) ekta kapoor (1) Engineering (2) England (6) England Cricket (2) England Women cricket (2) English (5) Eve teasing (1) exams (16) Facebook (11) Facebook likes (1) family (1) FilmFare (1) Finance (5) Flickr (1) flipkart (6) football (8) Formula1 (1) France (1) friends (1) galaxy (1) Game of Thrones (1) GATE (1) Gautam gambhir (1) General (92) geography (1) George Bailey (1) Germany (2) GitHub (1) GK (179) Glenn Maxwell (1) Gmail (2) godaddy (5) Google (25) Google adsense (9) Google Trends (4) google+ (3) GoogleDNS (1) GOSF (1) Graeme Swann (1) Grand masti (1) graphic card (1) Greg Chappel (1) Gunday (1) Half Girlfriend (1) handball (1) Haryana (1) Haryana sarkar (1) haryanvi movie (1) hash tag (1) Hate story 2 (1) Health (23) hindi (5) History (3) Holland (1) Hollywood (10) homeshop18 (2) Honey Singh (2) Hongkong (1) Hrithik Roshan (1) Human Psychology (1) Humor (14) humour (9) ibps (4) icc (3) ICC World Cup (3) ICC World Cup 2015 (3) IIIT Allahabad (4) IIM (2) iit (2) India (272) India Railways (6) Indian cricket (21) Indian Share Market (1) Indian States (21) Indian Stock Market (1) Indiblogger (1) infibeam (2) infolinks (3) internet (120) Interview Tips (1) investment (2) ipl (7) Ireland (2) irfan khan (1) izea (1) jabong (2) Jacques Kallis (1) James Rodriguez (2) John Abraham (1) Jules Bianchi (1) Kailash Satyarthi (1) kamaal khan (2) kapil sharma (10) Karan Johar (1) Karan Singh Grover (1) kareena kapoor (1) katrina kaif (3) Kevin Peterson (2) kick (2) Kim Kardashian (1) Kings XI punjab (2) Kolkata Knightriders (4) kontera (3) L'Oreal (1) laptop (2) leadership (1) lenskart (1) Life (119) linkshare (3) LL (21) Lords (1) lottery (3) love (27) Love Proposal (2) Luis Suarez (1) Madras Cafe (1) Mahabharat (1) mahendra singh dhoni (5) Malala (1) Maria Sharapova (1) Mario Gotze (1) Mark Zuckerberg (2) marketing (1) Mary Kom (1) Mayanti langer (2) medical (4) mens (3) messaging sites (1) metrogirl (1) mexico (1) michael clarke (1) Michael Phelps (1) Michael Schumacher (1) Microsoft (3) Microsoft Word (1) mobile (15) Money (3) monkey (1) Motivational (82) movie (18) movie review (14) MS Dhoni (5) Mukesh Ambani (2) Mulayam Singh (1) Mumbai Indians (2) music (1) mussoorie (1) myntra (1) naaptol (1) Narendra Modi (13) NASA (1) Nepal (1) New zealand (2) New Zealand cricket (1) news (18) Newspaper (16) Neymar (1) nigeria (1) NNMCB (2) Nobel Prize (1) Noble cause (1) nokia (1) non-profit cause (1) Notes (3) Novak Djokovic (1) Ochoa (1) olx (1) Olympics (1) online education (14) online popularity (2) online shopping (1) orkut (1) Paksitan (2) parents (1) Pastebin (1) pc (6) Personal Finance (1) Phillip hughes (3) photography (1) Physics (1) pinterest (1) pk (1) political science (1) politics (11) Priyanka Chopra (2) Psychology (5) qadabra (1) quantitative aptitude (6) Query (49) quikr (1) Quotation (13) Quotes (35) Rahul Dravid (2) Rajasthan Royals (2) Rajesh khanna (1) Rajsthan (1) Ram charan Teja (1) Ranveer singh (1) rape (5) Ray Rice (1) Real madrid (1) Reasoning (5) Record (1) redirect url (1) relationships (3) Reliance (1) Republic Day (1) Richard Sherman (1) Roger Fedrer (1) Rohit Sharma (2) Royal challenger Bangalore (2) Sachin tendulkar (9) Sadashiv Amrapurkar (1) saif ali khan (1) sales (1) Salman khan (10) samsung (2) Sanjay Dutt (1) Santa Clause (1) Sarah Taylor (1) Scams (7) Scandal (2) ScaryBasu (1) schoolboy (2) schools (6) science (1) search engine optimization (2) Selfie (3) semester (1) seo (2) sex (6) sexy girls (8) Shahid Kapoor (1) shahrukh khan (6) shame (1) Shane warne (1) Shane Watson (1) Share Market (2) Shehnaz treasury (1) Shikhar Dhawan (1) Shradha kapoor (2) singham returns (1) smartphone (1) sms (1) snapdeal (2) social network (21) societies (2) software (3) sonakshi sinha (1) Sonia Gandhi (1) South africa (3) South Africa Cricket (3) spiritual (1) sponsored (1) sports (13) Sri Lanka (3) Sri Lanka Cricket (2) ssc (40) starcj (1) stock market (29) stuart binny (3) students (166) Sunil Shetty (1) sunny leone (3) Sunrisers Hyderabad (2) Suresh Raina (3) surveen chawla (1) survey extreme (1) syllabus (2) T20 (5) T20 World Cup (3) Tamilanadu (1) Teacher (2) teaser (1) Tech (37) Technology (1) Television (3) Tennis (2) test cricket (2) The Hindu Editorial (33) tiger (1) tips (1) Top10 (3) torrent (1) tour (3) Trailer (5) travel (5) tricks (2) Trolls (22) tutorials (20) TV (2) twitmob (1) twitter (10) UAE (1) Updates (71) upsc (6) uttar kumar (1) Uttar Pradesh (1) Varun Dhawan (1) videos (2) Vimeo (1) viral (15) Virat Kohli (5) Virendra sehwag (1) vivek oberoi (1) Vivid (5) warren buffet (1) Web browsing (1) webs (2) website (24) Weebly (1) West indies (2) whatsapp (4) white revolution (1) Wikipedia (1) Wimbledon (1) Windows (2) wordpress (8) world (134) world cricket (2) world cup (7) world cup 2014 (4) Yahoo (1) Youth (1) Youtube (12) YouTube Channel (3) Yuvraj Singh (3) Zanjeer (2) Zee news (2) Zimbabwe (1) zoo (1)