Advertisement

Advertisement

Showing posts with label Motivational. Show all posts
Showing posts with label Motivational. Show all posts

Monday, October 26, 2020

Life Lesson 7 | Killing Quote 5


Source : @Fundamental_Blasters 

Friday, October 16, 2020

What is the most powerful truth in this world?

Most girls will choose their parents over you.

Most boys will choose sex over you.

Your number of true friends are 1 or 0.

Success never comes easily, I said NEVER!

Getting true love is really hardest thing in this world.

Yes, Even you can beat him/her or anyone.

Real happiness comes from inside.

Money speaks, person not!

It's ok, if wealthy people makes mistakes.

Break ups are hurtful but it's really helpful.

One day, they will change.

One day, you would have to accept the changes.

Opportunities are somewhere, everywhere!

One day, I will change.

“Only” you're not in this situation.

You're unique from everyone.

Death is ultimate truth.

Thursday, October 15, 2020

What are some ugly truths of life?

  1. In this picture- we run for the things which we don’t have, we will never gonna satisfied with our life.
  2. Your biggest enemy is your mind
  3. Your friend’s stories and photos on social media is the reason for your insecurities
  4. Luck exists. Luck is 15% and hard work is 85%
  5. You can’t be honest to anybody, not even to yourself
  6. Look matter ( if you don’t believe then go to answer which have girls photos and see the views and upvote, and then see this answer upvotes and views)
  7. You don’t need to find happiness, it is a choice to be happy
  8. The world sees introvert as a loser or a rude person. An introvert is never really understood by other people
  9. Most people respect people who they are afraid of( who are powerful), not the one who is good to them.
  10. The amount of respect a man gets in society is directly proportional to how much he earned.
Source : Vish Vinay

Sunday, October 4, 2020

What are the important lessons you learnt in life?

Sushil Kumar, you might have heard this name. He won 5 crores in Kaun Bnega Crorepati (KBC 2011).

Recently he posted something which shocked me. He said that he had worst phase of life after winning KBC.


Why that happened?

Phase 1

A very common man who used to belong to a poor family background of Bihar, preparing for government job exams. Luckily he got call from KBC, played really well and won 5 crores.

His life took 180° turn and became country’s sensation overnight, he said that he was being invited in events 15-16 days in a month. Media were interviewing him very often.


Phase 2

As you know, fame fades away one day, but he wanted to maintain that status and definitely he couldn't get that fame by a government job and by living in village. Also he was so concerned about his image in media that he invested money in some businesses so that he could tell media that he is doing something big when they ask what he is doing currently. For this, he did some charities too. Still many people used to mock him by sayingif god is merciful, then anyone i.e. even a donkey can be all powerful and rich”.

He then went to Mumbai and tried many things like becoming film director, script writer of films, tried realities shows but things didn't work out well.

There he got addicted to cigarette and alcohol too and his relationship with his wife was also about to end due to regular conflicts that time. He was totally losing himself in the way.


Phase 3

Somehow he came out of all that, he realised that this is not what his life meant to be. He lost the money he invested in businesses, charity money was also misused.

Somehow, he got sense that he is living someone else’s life just to show the world which he wasn't actually. He left the city and came to his village. He prepared for a teaching exam and cracked it. Relationship with his wife also became good. And he started working on his dream project related to environment and succeeded in that. Now he says that he is living the best life.


It is always the journey which decides the destiny not the result . And in this case journey was missing.

No matter what you achieved or who you are, life will teach you the lessons which you missed. You are free to make choices but you are not free from the consequences of that choices.

Source : Akash Kumar

Monday, September 28, 2020

What 10 things have you stop doing in your life?

  1. Stop watching porn. (Biggest achievement.)
  2. Stop being available for everyone.
  3. Stop being too sweet towards people.
  4. Stop being too rude towards people.
  5. Stop judging people.
  6. Stop investing time in useless things.
  7. Stop getting jealous.
  8. Stop following celebrities.
  9. Stop (actually not stop but have reduced) eating junk food.
  10. Stop Daydreaming and being in my own world and now ready to face world.

Do you know her? 😁😉

If yes, then stop doing it.

Sunday, September 27, 2020

What are some truths about life nobody tells you?

  • Nobody tells, Masturbation can’t replace SEX.
  • It can happen that, “your childhood female best friend can’t be your girlfriend in adulthood.”
  • Your best friend can become your worst enemy.
  • Only two types of people are available around you.
    • Positives.
    • Relatives.
  • In this entire world, only one person will forgive you for all your mistakes and the person is “YOU”.
  • Even your parents will stop caring for you if they won't have enough money.
  • Not everyone wants to see you rising up.
  • Rank is just number.
  • Money does matter everywhere, Look matters too.
  • Not everyone will stand with you when you'll need them the most.
  • Caste may matter in love stories.
  • You may not get your first love as your life partner.
  • One day your parents will die too.
  • After all, even you will die one day.
Source : Parwez Aalam

Saturday, September 26, 2020

Deep Meaning Motivational Photos

1. A picture that speaks volumes.

2. Imagine a better world.

3. What some may have in abundance is a luxury to someone else.

4. How greed for power and money cleaves bond and trust.

5. What goes around comes around.

6. It's not just a tree…

7. Ideas will live on.

8. Empty vessels makes the most noise.

9. When the law stoops for money.

10. Painting a perfect picture.

11. Gold digger.

12. A true depiction of the puppet hierarchy in society.

13. They carry more than what they can.

14. Food for thought.

15. What goes in, goes out.

16. No mercy.

17. Toxic relationships.

18. Gratitude and attitude makes a difference.

19. Most addictive modern age trap.

Monday, September 21, 2020

जीवन के चमत्कारी रहस्य क्या हैं ?

आदमी कितना जीता है? 70 या 80 साल। बहुत अच्छी सेहत हुई तो 100 साल। इन 100 वर्षों में वह प्रारंभिक 25 वर्ष तो संसार, खुद को समझने और करियर बनाने में ही लगा देता होगा। अगले 25 वर्ष वह गृहस्थ जीवन के संघर्ष में गंवा देता होगा और अंत में सोचता होगा कि अब जिया जाए या शायद सोचता होगा कि अब सुकून से जीना चाहता हूं? हालांकि यह सोच काल और परिस्थिति के अनुसार सभी की अलग-अलग हो सकती है।

आजकल जीवन प्रबंधन के बारे में भी बहुत सुनने को मिलता है, लेकिन कितने लोग हैं, जो अपने जीवन का प्रबंधन कर सकते हैं? क्या सचमुच जीवन प्रबंधन करने के बाद जीवन वैसे ही चलता है? हालांकि उपरोक्त लिखी गईं सभी बातें व्यर्थ हैं। हम आपको बताएंगे कि किस तरह आपका जीवन संचालित होता है और आखिर क्या है जीवन का सही रहस्य। हम आपको जीवन रहस्यों के बारे में बता रहे हैं। उस पर आप अकेले में गंभीरता से विचार करना तो हो सकता है कि वह आपको समझ में आ जाए। हालांकि अधिकतर लोग पहले से ही समझदार हैं। हम उन्हें क्या समझाएं, वे दिनभर फेसबुक, ब्लॉग और ट्विटर पर अपने ज्ञान को प्रदर्शित करते ही रहते हैं।

निरोगी काया : यदि आप स्वस्थ हैं तो ही आपका जीवन है। अस्वस्थ काया में जीवन नहीं होता। व्यक्ति 4 कारणों से अस्वस्थ होता है : पहला मौसम-वातावरण से, दूसरा खाने-पीने से, तीसरा चिंता-क्रोध से और चौथा अनिद्रा से।

मौसम और वातावरण आपके वश में नहीं, लेकिन घर और वस्त्र हों ऐसे कि वे आपको बचा लें। घर को आप वस्तु अनुसार बनाएं। हवा और सूर्य का प्रकाश भीतर किस दिशा से आना चाहिए, यह तय होना चाहिए ताकि वह आपकी बॉडी पर सकारात्मक प्रभाव डाले।

खाना-पीना आपके हाथ में है अत: उत्तम भोजन और उत्तम जल जरूरी है। हर तरह के नशे से दूर रहने की बात भी आप जानते ही होंगे। आहार के साथ उपवास भी जरूरी है। उपवास के लिए विशेष दिन और माह नियुक्त हैं।

चिंता और क्रोध करने की भी आदत हो जाती है शराब पीने की तरह। मनोवैज्ञानिक कहते हैं कि नशा करके व्यक्ति चिंता में तो हो ही जाता है और वह चिड़चिड़ा भी हो जाता है। ये दोनों ही आदतें आपके शरीर को जल्द से जल्द बूढ़ा बना देंगी और साथ ही आप अपने परिवार को भी खो देंगे।

अब जहां तक चौथे कारण का सवाल है, ऐसे में कहना होगा कि उपरोक्त तीन है तो चौथा हो ही जाएगा। उत्तम नींद संजीवनी दवा के समान होती है। मानसिक द्वंद्व, चिंता, दुख, शोक, अनावश्यक बहस, अनावश्यक विचार आदि सभी से श्वासों की गति अनियंत्रित हो जाती है जिसके चलते नींद उड़ जाती है। इससे मुक्ति का सरल उपाय है प्राणायाम और ध्यान। हालांकि आप और कुछ भी कर सकते हैं।

आपने दुनियाभर की किताबें पढ़ी होंगी या घर में रखी होंगी, लेकिन क्या आपके घर में ऐसी किताबें हैं, जो आपको सेहतमंद और चिंत्तामुक्त बने रहने के उपाय बताती हों? जीवनभर आपने स्कूल और कॉलेज में जो पढ़ा है और कठिन मेहनत करके जो कमाया है, वह अस्पताल में जाकर सब व्यर्थ सिद्ध हो जाने वाला है।

आपको घर में रखना चाहिए घरेलू नुस्खों की कई किताबें, आयुर्वेद और योग से संबंधित किताबें, सीडी आदि। इसके अलावा सबसे जरूरी वे किताबें है जिनके माध्यम से आपको आपके शरीर और दवाओं का ज्ञान होता हो। आपके शरीर के भीतर के अंग कौन-कौन-से हैं और वे किस तरह कार्य करते हैं और उन्हें कौन-से भोजन और व्यायाम की जरूरत है, यह भी जानना जरूरी है। हालांकि आप फेसबुक पर चलने वाली व्यर्थ की बातें जानने में ज्यादा उत्सुक रहते होंगे?

चाहें तो योग करें, पैदल चलें, तैराकी करें या कसरत करें। 24 घंटे में से 1 घंटा शरीर को स्वस्थ रखने के लिए देना चाहिए। जिस शरीर में आपको 70-80 साल रहना है, निश्‍चित ही आप उसके लिए कुछ तो करेंगे। यदि यह नहीं कर पाएं तो कम से कम उसके भीतर कचरा तो मत डालिए।

जेब में हो माया : हमारे ऋषि-मुनि कह गए हैं, 'पहला सुख निरोगी काया, दूसरा सुख जेब में हो माया।' धन कमाना जीवन में बहुत जरूरी होता है और सभी यह कार्य करते भी हैं। कुछ लोग कड़ी मेहनत करके धन कमाते हैं और कुछ लोग स्मार्ट वर्क करके धन कमाते हैं। धन कमाने के अच्छे रास्ते भी हैं और बुरे भी।

अच्छे रास्ते से कमाया गया धन ही आपके जीवन को संतुष्ट कर सकता है अन्यथा आप शायद नहीं जानते हैं कि बुरे रास्ते का धन बुराई में ही समाप्त हो जाता है। ऐसे लोग जेलखाने, दवाखाने या पागलखाने में ही मिलते हैं।

धनवान बनने के गुप्त रहस्य के बारे में जानने से अच्छा है कि आप प्रैक्टिकल तरीके से इसके बारे में सोचें। हालांकि लोग कहते हैं कि अपार धन कमाने का कोई शॉर्टकट नहीं होता और सारे शॉर्टकट मार्ग जेल में जाकर ही खत्म होते हैं। लेकिन यह भी सही है कि आपका मार्ग सही है, तो उसे शॉर्टकट बनाया जा सकता है।

आपकी योग्यता ही सबसे बड़ी दौलत है। आप जितने योग्य और कार्यकुशल होंगे, आपके मार्ग की बाधाएं समाप्त होती जाएंगी। धन कमाने के शॉर्टकट मार्ग वे ही लोग ढूंढते हैं, जो अयोग्य हैं। आप सीखें वह सब कुछ जिसके माध्यम से धन कमाया जा सकता है। योग्य व्यक्ति की संसार को जरूरत है।

जैसी सोच, वैसा भविष्य : भगवान बुद्ध कहते हैं कि आज आप जो भी हैं, वह आपके पिछले विचारों का परिणाम है। विचार ही वस्तु बन जाते हैं। इसका सीधा-सा मतलब यह है कि हम जैसा सोचते हैं, वैसे ही भविष्य का निर्माण करते हैं। यही बात 'दि सीक्रेट' में भी कही गई है और यही बात धम्मपद, गीता, जिनसूत्र और योगसूत्र में कही गई है। इसे आज का विज्ञान 'आकर्षण का नियम' कहता है।

संसार को हम पांचों इंद्रियों से ही जानते हैं और कोई दूसरा रास्ता नहीं। जो भी ग्रहण किया गया है, उसका मन और मस्तिष्क पर गहरा प्रभाव पड़ता है। उस प्रभाव से ही 'चित्त' निर्मित होता है और निरंतर परिवर्तित होने वाला होता है। इस चित्त को समझने से ही आपके जीवन का खेल आपको समझ में आने लगेगा। अधिकतर लोग अब इसे समझकर अच्‍छे स्थान, माहौल और लोगों के बीच रहने लगे हैं। वे अपनी सोच को बदलने के लिए ध्यान या पॉजिटिव मोटिवेशन की क्लासेस भी जाने लगे हैं।

वैज्ञानिक कहते हैं कि मानव मस्तिष्क में 24 घंटे में लगभग 60,000 विचार आते हैं। उनमें से ज्यादातर नकारात्मक होते हैं। नकारात्मक विचारों का पलड़ा भारी है तो फिर भविष्य भी वैसा ही होगा और यदि ‍मिश्रित विचार हैं तो मिश्रित भविष्य होगा। अधिकतर लोग नकारात्मक फिल्में, न्यूज, सीरियल और गाने देखते रहते हैं इससे उनका मन और मस्तिष्क वैसा ही निर्मित हो जाता है। वे गंदे या जासूसी उपन्यास पढ़कर भी वैसा ही सोचने लगते हैं। आजकल तो इंटरनेट हैं, जहां हर तरह की नकारात्मक चीजें ढूंढी जा सकती हैं। न्यूज चैनल दिनभर नकारात्मक खबरें ही दिखाते रहते हैं जिन्हें देखकर सामूहिक रूप से समाज का मन और मस्तिष्क खराब होता रहता है।

जैसी मति, वैसी गति : 3 अवस्थाएं हैं- 1. जाग्रत, 2. स्वप्न और 3. सुषुप्ति। उक्त 3 तरह की अवस्थाओं के अलावा हमने और किसी प्रकार की अवस्था को नहीं जाना है। जगत 3 स्तरों वाला है- एक, स्थूल जगत जिसकी अनुभूति जाग्रत अवस्था में होती है। दूसरा, सूक्ष्म जगत जिसका हम स्वप्न में अनुभव करते हैं तथा तीसरा, कारण जगत जिसकी अनुभूति सुषुप्ति में होती है।

उक्त तीनों अवस्थाओं में विचार और भाव निरंतर चलते रहते हैं। जो विचार धीरे-धीरे जाने-अनजाने दृढ़ होने लगते हैं और वे धारणा का रूप धर लेते हैं। चित्त के लिए अभी कोई वैज्ञानिक शब्द नहीं है लेकिन मान लीजिए कि आपका मन ही आपके लिए जिन्न बन जाता है और वह आपके बस में नहीं है, तब आप क्या करेंगे?

धारणा बन गए विचार ही आपके स्वप्न का हिस्सा बन जाते हैं। आप जानते ही हैं कि स्वप्न तो स्वप्न ही होते हैं, उनका हकीकत से कोई वास्ता नहीं फिर भी आप वहां उस काल्पनिक दुनिया में उपस्थित होते हैं।

इसी तरह बचपन में यदि यह सीखा है कि आत्मा मरने के बाद स्वर्ग या नर्क में जाती है और आज भी आप यही मानते हैं तो आप निश्‍चित ही एक काल्पनिक स्वर्ग या नर्क में पहुंच जाएंगे। यदि आपके मन में यह धारणा बैठ गई है कि मरने के बाद व्यक्ति कयामत तक कब्र में ही लेटा रहता है, तो आपके साथ वैसा ही होगा। हर धर्म आपको एक अलग धारणा से ग्रसित कर देता है। हालांकि यह तो एक उदाहरण भर है। धर्म आपके चित्त को एक जगह बांधने के लिए निरंतर कुछ पढ़ने या प्रार्थना करने के लिए कहता है ताकि आप समूह के आकर्षण में बंधकर उसे ही सच मानने लगो।

वैज्ञानिकों ने आपके मस्तिष्क की सोच, कल्पना और आपके स्वप्न पर कई तरह के प्रयोग करके जाना है कि आप हजारों तरह की झूठी धारणाओं, भय, आशंकाओं आदि से ग्रसित रहते हैं, जो कि आपके जीवन के लिए जहर की तरह कार्य करते हैं। वैज्ञानिक कहते हैं कि भय के कारण नकारात्मक विचार बहुत तेजी से मस्तिष्क में घर बना लेते हैं और फिर इनको निकालना बहुत ही मुश्किल होता है।

जाति स्मरण : हालांकि यह एक ऐसी बात है जिस पर आप ध्यान न भी देंगे तो भी आपके जीवन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ने वाला है, लेकिन ऐसी भी जानकारी होना चाहिए इसीलिए इसे यहां लिखा जा रहा है।

हमारा संपूर्ण जीवन स्मृति-विस्मृति के चक्र में फंसा रहता है। आप खुद या दूसरों को भी यादों के माध्यम से ही जान पाते हों। उम्र के साथ स्मृति का घटना शुरू होता है, जो कि एक प्राकृतिक प्रक्रिया है अगले जन्म की तैयारी के लिए।

यदि मोह-माया या राग-द्वेष ज्यादा है, तो समझो स्मृतियां भी मजबूत हो सकती हैं। व्यक्ति स्मृति-मुक्त तभी होता है जबकि प्रकृति उसे दूसरा गर्भ उपलब्ध कराती है, लेकिन पिछले जन्म की सभी स्मृतियां बीज रूप में कारण शरीर के चित्त में संग्रहीत रहती हैं। विस्मृति या भूलना इसलिए जरूरी होता है कि यह जीवन के अनेक क्लेशों से मुक्ति का उपाय है।

कैसे जानें पूर्व जन्म को : योग में पूर्व जन्म ज्ञान सिद्धि योग के बारे में विस्तार से बताया गया है। इसे जाति स्मरण का प्रयोग भी कहा जाता है। इस योग की साधना करने से व्यक्ति को अपने अगले-पिछले सारे जन्मों का ज्ञान होने लगता है। योग कहता है कि ‍सर्वप्रथम चित्त को स्थिर करना आवश्यक है तभी इस चित्त में बीज रूप में संग्रहीत पिछले जन्मों का ज्ञान हो सकेगा। चित्त में स्थित संस्कारों पर संयम करने से ही पूर्व जन्म का ज्ञान होता है। चित्त को स्थिर करने के लिए सतत ध्यान क्रिया करना जरूरी है।

ध्यान को जारी रखते हुए आप जब भी बिस्तर पर सोने जाएं, तब आंखें बंद करके उल्टे क्रम में अपनी दिनचर्या के घटनाक्रम को याद करें। जैसे सोने से पूर्व आप क्या कर रहे थे? फिर उससे पूर्व क्या कर रहे थे? तब इस तरह की स्मृतियों को सुबह उठने तक ले जाएं।

दिनचर्या का क्रम सतत जारी रखते हुए 'मेमोरी रिवर्स' को बढ़ाते जाएं। ध्यान के साथ इस जाति स्मरण का अभ्यास जारी रखने से कुछ माह बाद जहां मेमोरी पॉवर बढ़ेगा, वहीं नए-नए अनुभवों के साथ पिछले जन्म को जानने का द्वार भी खुलने लगेगा।

स्वाध्याय : स्वाध्याय का अभ्यास आपको मनचाहा भविष्य देता है। स्वाध्याय का अर्थ है स्वयं का अध्ययन करना, अच्छे विचारों का अध्ययन करना और इस अध्ययन का अभ्यास करना।

आप स्वयं के ज्ञान, कर्म और व्यवहार की समीक्षा करते हुए पढ़ें वह सब कुछ जिससे आपके जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता हो, साथ ही आपको इससे खुशी ‍भी मिलती हो। तो बेहतर किताबों को अपना मित्र बनाएं।

जीवन को नई दिशा देने की शुरुआत आप छोटे-छोटे संकल्प से कर सकते हैं। संकल्प लें कि आज से मैं बदल दूंगा वह सब कुछ जिसे बदलने के लिए मैं न जाने कब से सोच रहा हूं। अच्छा सोचना और महसूस करना स्वाध्याय की पहली शर्त है।

ईश्वर प्राणिधान : वेद कहते हैं कि सिर्फ एक ही ईश्वर है जिसे ब्रह्म या परमेश्वर कहा गया है। इसके अलावा और कोई दूसरा ईश्वर नहीं है। ईश्वर निराकार है, यही अद्वैत सत्य है। ईश्वर प्राणिधान का अर्थ है- ईश्वर के प्रति पूर्ण समर्पण, ईश्वर के प्रति पूर्ण विश्वास। न देवी, न देवता, न पीर-फकीर, न ज्योतिष और न ही गुरु घंटाल। यदि आप मर्द हो तो राहू, केतु या शनि से डरने की जरूरत नहीं। हाथ की अंगूठियां और गले का ताबीज निकालकर फेंक दें। वेद कहते हैं कि असुरक्षा से ही जीवन पैदा होता है और आत्मा बलवान बनती है।

एक ही ईश्वर के प्रति अडिग रहने वाले के मन में दृढ़ता आती है। यह दृढ़ता ही उसकी जीत का कारण है। चाहे सुख हो या घोर दुःख, उसके प्रति अपनी आस्था को डिगाएं नहीं। इससे आपके भीतर पांचों इन्द्रियों में एकजुटता आएगी और लक्ष्य को भेदने की ताकत बढ़ेगी। वे लोग जो अपनी आस्था बदलते रहते हैं, भीतर से कमजोर होते जाते हैं।

विश्वास रखें सिर्फ 'ईश्वर' में, इससे बिखरी हुई सोच को एक नई दिशा मिलेगी और जब आपकी सोच सिर्फ एक ही दिशा में बहने लगेगी तो वह धारणा का रूप धर उसकी तस्वीर ब्रह्मांड में ईश्वर के पास पहुंच जाएगी। ईश्वर उस तस्वीर को मूर्तरूप देकर आपके पास लौटा देगा। ब्रह्मांड में दूरस्थ स्थित ब्रह्म ही सत्य है।

अभ्यास :

करत-करत अभ्यास के जड़मति होत सुजान।

रसरी आवत-जात के, सिल पर परत निशान।।

अभ्यास के बल पर मूर्ख भी बुद्धिमान हो जाता है, अज्ञानी भी ज्ञानी हो जाता है। इतिहास साक्षी है कि अभ्यास एवं परिश्रम के बल पर असंभव दिखाई देने वाले कार्य भी संभव हो जाते हैं। ऋषि-मुनियों की सिद्धियां, वैज्ञानिकों के आविष्कार, राजाओं की विजय गाथाएं- सब इसी का प्रमाण हैं कि यदि मनुष्य हिम्मत न हारे और निरंतर अभ्यास और प्रयास करता रहे तो फिर 'असंभव' शब्द के लिए कहीं स्थान नहीं। बार-बार एक ही काम को कर उसमें निपुण होने का प्रयास ही अभ्यास है।

अभ्यास एक ऐसा माध्यम है जिससे कठिन से कठिन कार्य में कुशलता पाई जा सकती है। जीवन में आप जो भी अच्छा जानते हैं और करना चाहते हैं, उसका अभ्यास करते रहिए। जीवन में अभ्यास की लगातार जरूरत पड़ती रहती है।

आप यदि शुरुआत में प्रतिदिन मन मारकर रोज 6 बजे उठते हैं तो कुछ दिनों बाद 6 बजे उठने का आपको अभ्यास हो जाता है। बाद में यदि आप न भी उठेंगे तो आपकी नींद ठीक 6 बजे ही खुल जाएगी। इसी तरह जन्म और मृत्यु आपके अभ्यास का ही परिणाम है। जिंदगीभर आप किस तरह जिए? अनुशासन में जिये या कि अराजक तरीके से? आपके इस तरीके के अभ्यास से ही आपकी मृत्यु होगी अर्थात अंत में परिणाम निकलेगा। अच्छे अंत से अच्छी शुरुआत भी होती है और अच्छी शुरुआत से अच्छा अंत।

जन्म और मृत्यु के रहस्य को समझना है, तो आप वर्तमान में जी रहे जीवन को समझें। आपकी आदतें, कर्म, अभ्यास, विचार आदि सभी चित्त में इकट्ठे हो रहे हैं। सभी के सम्मिलित प्रभाव से ही परिणाम निकलेगा। आपकी नींद खुलने का जब समय होता है, अधिकतर मौके पर तब ही आपके जन्म लेने का समय होगा इसलिए अभ्यास के महत्व को समझें। पुराने लोग अपनी दिनचर्या को सुधारते थे और उसी के अनुसार जीवन-यापन करते थे।

अभ्यास का महत्व समझें। अभ्यास व्यक्ति को परिपूर्ण और योग्य बनाता है। ऑफिस में, घर में या अन्य कहीं पर भी आप कोई-सा भी कार्य कर रहे हैं, उसे मन लगाकर करना जरूरी है। कोई-सा भी कर्म खाली नहीं जाता है। अभ्यास का अर्थ है- एक ही प्रक्रिया को बार-बार, निरंतर दोहराना। दोहराने की इस प्रक्रिया के चलते त्रुटियां होने की गुंजाइश समाप्त हो जाती है। अच्छा अभ्यास करें।

सांप्रदायिकता और साम्यवाद से बचें : ये दोनों ही तरह की विचारधाराएं जीवन और देश विरोधी हैं। यदि आप अपने जीवन, अपने परिवार और अपने देश से प्यार करते हैं तो इन घातक विचारधाराओं से बचें। आपके द्वारा फैलाई गए सांप्रदायिक विचार से देश का भला नहीं होगा। आप धार्मिक विचार फैलाने के लिए स्वतंत्र हैं। धार्मिक होना और सांप्रदायिक होना दोनों अलग-अलग बातें हैं। धार्मिक बनने के लिए कथित रूप से किसी धर्म, संप्रदाय या संगठन की जरूरत नहीं होती। संगठन विचारधाराओं के होते हैं। धर्म और साम्यवाद एक ही सिक्के के दो पहलू हैं।

विचारधाराएं दो तरह की होती हैं- एक भ्रमपूर्ण और दूसरी स्पष्ट। स्पष्ट विचारधारा में कायदे, हुक्म और पाबंदियां होती हैं, जबकि भ्रमपूर्ण विचारधारा खुद को लोकतांत्रिक और सहिष्णु मूल्यों को प्रस्तुत कर लोगों को कन्फ्यूजन और निर्णयहीनता की स्थिति में डाल देती है। ऐसे व्यक्ति के मन में अराजक और कमजोर विचार होते हैं। कन्फ्यूज मस्तिष्क में दृढ़ता नहीं, भय और शंका ही हो सकती है।

साम्यवादी विचारधारा अमीर और गरीबों के नाम पर उनके बीच एक साफ लकीर खींचकर लोगों को लोगों के खिलाफ खड़ा करती है। इस तरह से यह विचारधारा इस बात का एहसास दिलाती है कि वे एक एलीट-ग्रुप का हिस्सा हैं, जो दुनिया को बचाने का काम कर रहे हैं। दुनिया तभी बचेगी, जब सभी लोग समान हो जाएंगे। इस विचारधारा में आदमी मानसिक गुलाम होता है जिस पर वह गर्व करता है। गुलाम बनने में गर्व महसूस करवाना ही इस विचारधारा का उद्देश्य रहता है। लोगों को गरीब बनाकर रखने में ही इस विचारधारा का फायदा है। साम्यवाद व्यक्ति स्वतंत्रता के खिलाफ है।

खुशी और चाहत : सफल व्यक्ति वे होते हैं, जो अपने जीवन में कुछ अच्‍छा चाहते हैं। अच्छा चाहने के लिए खुश रहना जरूरी है। यदि आपके जीवन में आपने जो चाहा, वह अभी तक मिला नहीं है तो आप उदास और निराश रहने लगेंगे जबकि ऐसा करने से आपने जो चाहा है, उसका पास आना और मुश्किल हो जाता है। खुशी और चाहत दोनों एक-दूसरे की पूरक हैं। हमेशा खुश रहना सीखें। अभ्यास से यह संभव हो सकता है।

खुश रहेंगे तो आप जीवन में जो भी सहज रूप से चाहेंगे, वह मिलता जाएगा। अत: खुशी-खुशी सपने देखो, अपना लक्ष्य बनाओ, उसके लिए योजना बनाओ और कार्य करो। कार्य करते रहो, करते रहो और करते रहो। परिणाम की चिंता मत करो।

यदि परिणाम मनचाहा नहीं मिल रहा है ‍तो पता करें कि वह कौन-सी चीज है, जो आपको पीछे की तरफ खींच रही है फिर उससे अपना पीछा छुड़ाएं। पहले आप अपनी बाधा को हटाएं।

जानकारी ही बचाव है : कुछ ऐसे विषय हैं जिनके बारे में जानते रहना चाहिए, क्योंकि वे सभी के जीवन से जुड़े हुए विषय हैं जैसे कि दवाई, डॉक्टर, आयुर्वेद, टेक्नोलॉजी, संचार माध्यम, इंटरनेट, टैक्स, कानून, समाज, धन, यात्रा, ट्रैवल कंपनी, होटल, लॉज, तीर्थ स्थल, पर्यटन स्थल, धर्म, इतिहास, अंतरराष्ट्रीय राजनीति, स्कूल, अस्पताल, शिक्षा, ऑफिस कार्य, शहर, भाषा, संस्कृति, शादी, समारोह, सरकारी सुविधाएं, जंगल, जानवर, समुद्र, पहाड़, नदी, गांव, किसी के द्वारा दी गई जानकारी, टिप्स, खास वाक्य, दोस्त, रिश्तेदार, नए कपड़े, किराने का सामान आदि ऐसी सैकड़ों बातें हैं।


Source : Shivam Sharma

Killing Quote 1

Sunday, September 20, 2020

मैं जीवन में महान काम कैसे कर सकता हूँ?

  1. अपना सब कुछ दे दो। चीजों को पूर्ववत छोड़ने के लिए जीवन बहुत छोटा है।
  2. उन चीजों को "हां" कहें जो आपको डराती हैं। यह डर से परे है कि आपको सबसे बड़ा अनुभव मिलेगा।
  3. सोशल मीडिया को पीछे छोड़ दें। जब तक जरुरत न हो।
  4. रूल को फॉलो करो । यह वास्तव में सही रास्ता पाने का एकमात्र तरीका है।
  5. अपने इरादे को हमेशा ध्यान में रखें। तनाव से बचने का यही एक रास्ता है।
  6. जाने देना सीखो। तो आप आगे क्या है, इस पर अपनी नज़र रख सकते हैं।
  7. दूसरों को खुश करने की कोशिश मत करो। यह आपका जीवन है और आपको ही इसे ठीक होना है।
  8. जो जरूरी है वह करो। यह हमेशा आसान नहीं होता है और हमेशा मज़ेदार नहीं होता है। इसे कैसे भी करें।
  9. प्रत्येक दिन अपने आप को थोड़ा पुश करें। यदि आप प्रतिदिन केवल 0.1% सुधार करते हैं, तो 10 वर्षों के भीतर आप 38 गुना अच्छे होंगे।
  10. अपने समय पर नियंत्रण रखें। सफलता पाने वालों और उन लोगों के बीच अंतर यह नहीं है कि वे अपना समय कैसे व्यतीत करते हैं।
  11. एक व्यक्तिगत शौक रखें। कुछ ऐसा जो वास्तव में आपको सुकून दे सके।
  12. अपने आप में निवेश करें। किताबें, कौशल, कोच, ज्ञान और व्यक्तिगत शक्ति, मनोरंजन, विलासिता, भौतिक चीजें और जिस आप को सकूँ मिल।
  13. क्रिएटिव लोगों के आसपास रहें। जिस से आप की ज्ञान में के अस्तर बढ़ता रहे। और लक्छ्य पर पहचाना आसान हो जाये गा।
  14. किसी की विस्वाश में इतना न रमो की आप कोई चोटिल कर दे। जिस आप रस्ते से भटक जाये।
  15. किसी से प्यार करो लकिन हद त। हद के आगे हमेशा जलना पड़ता है।
  16. आभारी होना। आप जितना सोचते हैं उससे कहीं ज्यादा है।
  17. हर चीज को लेकर हंसी-मजाक का ध्यान रखें। यदि आप इसके बारे में हँस सकते हैं तो अंततः आप पर भी कोई हँस सकता हैं।
  18. हर दिन अपने आप को अपनी प्रथाओं में रखें। अगर आप इसे रोजाना नहीं करते हैं तो ऐसा बिल्कुल न करें।
  19. उच्चतम प्राथमिकता का पालन करें। कम प्राथमिकता के साथ कुछ के लिए उच्च प्राथमिकता के कुछ को कभी भी प्रतिस्थापित न करें।
  20. अधिक सकारात्मक जोड़ने के लिए कैसे पर ध्यान दें। नकारात्मकता को सीमित करने की कोशिश करने के बजाय, अपने आप को बचाने की कोशिश करें और जो आपके पास है उसे बचाने की कोशिश करें, इतनी अद्भुत, सकारात्मक चीजें बनाएं जो कुछ गिरना चाहिए, यह कोई बात नहीं है। अच्छी चीजें ढेर!
  21. खुद को स्वीकार करें। आप वही हैं जो आप हैं, जैसे आपको पसंद है, और आप जो चाहते हैं वह चाहते हैं। अधिक होने या बदलने की इच्छा उसे अयोग्य नहीं बनाती है।
  22. अपने जुनून का पीछा करें। यदि आप इसे अभी तक नहीं जानते हैं, तो इसका पता लगाने का पीछा करें!
  23. अपने सबसे अच्छे दोस्त बनें। वह व्यक्ति बनें जो आपको अपने आप से झूठ नहीं बोलने देता और जो आपको बेहतर करने के लिए सबसे अधिक आगे रखे ।
  24. आज से शुरू करो। अब से ज्यादा सही समय नहीं है।
  25. रोजाना ध्यान करें। यह इस तरह के छोटे से प्रयास के लिए बहुत कुछ जोड़ता है।
  26. सब कुछ जानने की कोशिश मत करो। जीवन एक गड़बड़ है और एक रहस्य है। आप जो करते हैं उससे ज्यादा महत्वपूर्ण है जो आप जानते हैं।
  27. अपनी पसंद के पीछे खड़े हो जाओ। आप क्या करने के लिए चुना करने के लिए खुद को। यह हमेशा महान नहीं हो सकता है, लेकिन इसे सबसे अच्छे इरादों के साथ बनाया गया था।
  28. याद रखें कि कोई 'आसान' बटन नहीं है। कठिन और स्मार्ट काम, आसान काम नहीं, सफलता की ओर ले जाता है।
  29. अपनी सफलता को परिभाषित करें। किसी और के सपने का पीछा न करें। अपने को परिभाषित करें। आप इसे प्राप्त कर लें।
  30. जीने लायक जीवन जिएं। यदि आप वह नहीं करते हैं जो आप प्यार करते हैं, तो इस बात का क्या मतलब है? यह तुम्हारा जीवन है, ठीक है? इसलिए अपना जीवन जिएं।
Source : Yameen Raj

My Quote 25

My Quote 22

My Quote 20

My Quote 17

My Quote 16

My Quote 15

My Quote 14

My Quote 12

My Quote 9

Labels

India GK students internet Boys/Girls world Life General college celebs competitive exams bollywood Updates Education Article Motivational Query cricket ssc Tech Earn money The Hindu Editorial Quotes Google website business Indian States Indian cricket bank exams social network Delhi tutorials blogger celebrity love movie blogging news exams mobile Humor Newspaper movie review online education viral Narendra Modi Trolls Youtube sports Facebook Health atcontent controversy Salman khan kapil sharma twitter Google adsense Sachin tendulkar humour Hollywood cbse chutiyapa comedy nights with kapil politics sexy girls wordpress LL Scams football ipl world cup Amitabh bacchhan Delhi metro Delhi technological university England India Railways Quotation australia cricket computer flipkart pc quantitative aptitude schools shahrukh khan upsc Australia DTC English Finance MS Dhoni Reasoning T20 Trailer Virat Kohli america arvind kejriwal godaddy hindi mahendra singh dhoni rape stock market travel Google Trends IIIT Allahabad Kolkata Knightriders Psychology advertising amazon bharat sarkaar brazil business studies chitika clicksor ibps medical sex whatsapp world cup 2014 2 step varification BJP Bangladesh Bipasha Basu Chennai Super kings Delhi University ICC World Cup ICC World Cup 2015 Microsoft Notes Phillip hughes Selfie South Africa Cricket South africa Sri Lanka Suresh Raina T20 World Cup Television Top10 YouTube Channel Yuvraj Singh aam aadmi party adhitz alert amir khan application biotechnology blog cat chemistry google+ icc infolinks katrina kaif kontera linkshare lottery mens relationships software stuart binny sunny leone tour 2014 AAP KI SAMSYA Bawana Depot Bigg Boss Delhi Daredevils Download Engineering England Cricket England Women cricket Germany Gmail History Honey Singh IIM Ireland James Rodriguez Kevin Peterson Kings XI punjab Mark Zuckerberg Mayanti langer Mukesh Ambani Mumbai Indians NNMCB New zealand Paksitan Priyanka Chopra Rahul Dravid Rajasthan Royals Rohit Sharma Royal challenger Bangalore Scandal Shradha kapoor Sri Lanka Cricket Sunrisers Hyderabad TV Teacher Tennis West indies Windows Zanjeer Zee news anil ambani aptitude biology book chetan bhagat children content marketing dailymotion doctor ebay ebiz economics homeshop18 iit infibeam jabong kamaal khan kick laptop online popularity samsung schoolboy search engine optimization seo snapdeal societies syllabus test cricket tricks videos webs world cricket AB De Villiers AB Devilliers Aashiqui 2 Abdul Kalam Adblock plus Adblocker Afghanistan Ajay Devgan Akshay kumar Alia Bhatt Anand Kumar Argentina Arjun Kapoor Assam Bang Bang Banks Belgium Big Billion Day Blackberry Boys/Girl Byomkesh bakshi Cars Christmas Day Congress Corey Anderson DD national Danielle Wyatt Dev Anand Dilip kumar Diwali Eve teasing Facebook likes FilmFare Flickr Formula1 GATE GOSF Game of Thrones Gautam gambhir George Bailey GitHub Glenn Maxwell GoogleDNS Graeme Swann Grand masti Greg Chappel Gunday Half Girlfriend Haryana Haryana sarkar Hate story 2 Holland Hongkong Hrithik Roshan Human Psychology Indian Share Market Indian Stock Market Indiblogger Interview Tips Jacques Kallis John Abraham Jules Bianchi Kailash Satyarthi Karan Johar Karan Singh Grover Kim Kardashian L'Oreal Lords Luis Suarez Madras Cafe Mahabharat Malala Maria Sharapova Mario Gotze Mary Kom Michael Phelps Michael Schumacher Microsoft Word Money Mulayam Singh NASA Nepal New Zealand cricket Neymar Nobel Prize Noble cause Novak Djokovic Ochoa Olympics Pastebin Personal Finance Physics Rajesh khanna Rajsthan Ram charan Teja Ranveer singh Ray Rice Real madrid Record Reliance Republic Day Richard Sherman Roger Fedrer Sadashiv Amrapurkar Sanjay Dutt Santa Clause Sarah Taylor ScaryBasu Shahid Kapoor Shane Watson Shane warne Share Market Shehnaz treasury Shikhar Dhawan Sonia Gandhi Sunil Shetty Tamilanadu Technology UAE Uttar Pradesh Varun Dhawan Vimeo Virendra sehwag Web browsing Weebly Wikipedia Wimbledon Yahoo Youth Zimbabwe admission affair aishwarya animals attraction banking benny dayal buysellads camera champions league chennai express civil services clickbank clixgalore clixsense coco comedy circus costa rica crime dating donate download youtube videos ekta kapoor family friends galaxy geography graphic card handball haryanvi movie hash tag investment irfan khan izea kareena kapoor leadership lenskart marketing messaging sites metrogirl mexico michael clarke monkey music mussoorie myntra naaptol nigeria nokia non-profit cause olx online shopping orkut parents photography pinterest pk political science qadabra quikr redirect url saif ali khan sales science semester shame singham returns smartphone sms sonakshi sinha spiritual sponsored starcj surveen chawla survey extreme teaser tiger tips torrent twitmob uttar kumar vivek oberoi warren buffet white revolution zoo